सात जिलों में फैल चुका है अलकायदा आतंकी मिनहाज का नेटवर्क यूपी एटीएस का दावा-जल्दी ही होगी बड़ी कार्रवाई

कौटिल्य वार्ता
By -
0

 


मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ। 


आतंकी गतिविधियों में लिप्त होने के आरोप में पकड़े गये मिनहाज से कई जानकारियां सामने आयी है। तीन मददगारों मुईद, मुस्तकीम और शकील से आमना सामना कराने पर पता चला कि मिनहाज ने सात जिलों में मजबूत पैठ बना ली थी। यहां के कई युवा उसके सम्पर्क में थे। इनमें लखनऊ के अलावा हरदोई, कानपुर, शाहजहांपुर, मेरठ, उन्नाव और बरेली शामिल हैं। योजनानुसार यूपी में तबाही की तारिख मुकर्रर होते ही इन आतंकियों के लिये हलमंडी का खजाना खुल जाता। रिमांड के दौरान मददगारों से आमना-सामना कराने पर ऐसे कई तथ्य सामने आये।नई जानकारियां सामने आने के बाद एटीएस की तीन टीमें इन जिलों में पड़ताल कर रही है। साथ ही दावा किया जा रहा है कि इस मामले में जल्दी ही कुछ और लोगों पर कार्रवाई होगी।



एटीएस ने 11 जुलाई को काकोरी के दुबग्गा से मिनहाज और मोहिबुल्लापुर से उसके साथी मशरूद्दीन उर्फ मुशीर को आतंकी गतिविधियों में लिप्त होने के आरोप में पकड़ा था। तब खुलासा किया गया था कि अलकायदा आतंकी संगठन के लिये ये दोनों काम कर रहे थे और यूपी में कई जगह विस्फोट करने की साजिश रचे हुये थे। इसके बाद ही एटीएस ने तीन मददगारों मुईद, मुस्तकीम और शकील को भी पकड़ा। मिनहाज व मुशीर 14 दिन की रिमाण्ड पर हैं, जबकि अन्य तीन सात दिन की रिमाण्ड पर आये थे। इन तीनों की रिमाण्ड अवधि 23 जुलाई की शाम छह बजे खत्म हो गई थी। इन सात दिन में मिनहाज व मुशीर का इन तीनों से पांच बार आमना-सामना कराया गया।



मिनहाज से सबसे ज्यादा पूछताछ

तीनों मददगारों की रिमाण्ड अवधि खत्म होने के बाद एटीएस ने सामने आई जानकारियों के आधार पर मिनहाज से सबसे ज्यादा पूछताछ की गई। मिनहाज के मिले जवाबों की सच्चाई जांचने के लिए मुशीर से पूछताछ कर की गई। दावा किया जा रहा है कि कई बातों में विरोधाभास है पर इससे ही कई तथ्य भी हाथ लगे हैं। मिनहाज के सम्पर्क में आये सात जिलों के कई युवकों के बारे में काफी ब्योरा मिल गया है। जल्दी ही इन जिलों से भी कुछ लोगों को हिरासत में लिया जा सकता है। 

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)