मुजफ्फरनगर में दवा व्यापारी की गोली मारकर हत्या,कप्तान ने कहा मामला पुरानी दुश्मनी का!

 


यूपी के मुजफ्फरनगर में दवा व्यापारी की गोलियों से छलनी करके अपराधियों ने गोलियां तड़तड़ा कर बाजार बंद कराया, एसपी ने कहा कि पहचान हो गयी पकड़े जायेंगे अभियुक्त, बाजार नहीं बंद कराया गया


 


 


मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ।


यूपी में योगी सरकार की हनक कहें या पुलिस का इकबाल दरक गया है। गुरुवार की भोर में बरेली में हिन्दू नेता की गला रेत कर नृसंश हत्या की गयी तो रात को मुजफ्फरनगर में भरे बाजार अपराधी दवा व्यपारी को गोलियों से भूने और बाजार में विजयी मुद्रा का प्रदर्शन कर चले गये।मुजफ्फरनगर में बेखौफ बदमाशों ने गुरुवार की रात बेहद नृशंस हत्याकांड को अंजाम दिया। कस्बे के मुख्य बाजार में घर में घुसकर दवा व्यापारी की छाती पर 10 गोलियां मारी। 6 बदमाशों ने व्यापारी अनुज कार्नवाल को घेरकर गोलियों से भून डाला। हमलावार तब तक गोली मरते रहे जब तक व्यापारी की मौत नहीं हो गई।


इस दुस्साहसिक हत्या करने वाले हमलावार पूरी तरह बेखौफ थे। सनसनीखेज वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश घर से बाहर निकलकर बाजार में पहुंचे और वहां दुकानदारों को दुकान बंद कर भाग जाने को कहा। इसके बाद आरोपियों ने मुख्य बाजार में भी कई राउंड फायरिंग की। इस दौरान एक व्यापारी की दुकान के काउंटर में भी गोली मारी गई, जिसके बाद व्यापारी आनन-फानन में शटर डालकर वहां से निकल गए। सूचना पर सीओ सोमेंद्र नेगी और इंस्पेक्टर भोपा संजीव कुमार मौके पर पहुंचे।


पुलिस ने मौके से तीन खोखे बरामद किए हैं, जिनमें से दो नाली में और एक गली में पड़ा मिला। दवा विक्रेता की हत्या से परिवार के सदस्यों में कोहराम मच गया। साथ ही बाजार में फायरिंग के कारण दुकानदारों में दहशत पसर गई। कस्बा निवासी दवा विक्रेता अनुज कर्णवाल की हत्या के पीछे पुरानी रंजिश अथवा रंगदारी प्रकरण की आशंका जताई जा रही है। दरअसल, जिस तरह अनुज कर्णवाल पर बृहस्पतिवार देर रात हमला किया गया, ठीक उसी तर्ज पर लॉकडाउन से ठीक पहले मोरना के ही आटा कारोबारी पर भी हमला किया गया था।


उक्त वारदात का पुलिस अब तक खुलासा कर पाने में नाकाम रही है। पीड़ित परिजनों का कहना है कि घर में घुसे हमलावरों को देखते ही अनुज ने घर के अंदर भागने का प्रयास किया, लेकिन हमलावरों ने उसे पकड़कर सीधे सिर में गोली मार दी। इसके बाद उस पर कई राउंड फायरिंग की गई, जिससे साफ है कि अनुज संभवत: हत्यारोपियों को जानता था। इसके साथ ही आटा कारोबारी पर हमले से जोड़ते हुए अनुज से रंगदारी मांगे जाने की चर्चाएं भी ग्रामीणों द्वारा जताई जा रही है।


देर रात एसपी देहात नेपाल सिंह ने भी घटनास्थल का निरीक्षण कर परिजनों से वार्ता की। हत्यारोपियों को चिह्नित करने के लिए पुलिस कस्बे के मेन बाजार व आसपास क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल रही है। दवा विक्रेता की हत्या की वारदात से कसबे में दहशत व्याप्त है। पूरे कसबे में सन्नाटा पसरा हुआ है। लोग अपने घरों में है। बदमाशों के द्वारा की गई फायरिंग से घबराए लोग घरों से बाहर नहीं निकले। जिस कारण घायल अनुज काफी देर तक घर में ही पड़ा रहा। कोई भी मदद के लिए आगे नहीं आया। एसपी देहात नेपाल सिंह का कहना है कि दवा विक्रेता को तीन-चार गोलियां लगी हैं, जिससे साफ है कि हत्यारों का मकसद उसकी जान लेना ही था। परिजन फिलहाल कुछ भी बता पाने की स्थिति में नहीं हैं।


विभिन्न बिंदुओं पर हत्या की जांच की जा रही है।इस संदर्भ में एसएसपी मुजफ्फरनगर ने एक वीडियो जारी कर स्थित अस्पष्ट किया। मुजफ्फरनगर थाना भोपा में घटित घटना के संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुज़फ्फरनगर ने बताया कि  संबंधित प्रकरण में हत्या में शामिल तीनों अभियुक्तों की शिनाख्त कर ली गयी है, जल्द ही गिरफ्तारी की जाएगी। अभियुक्त मृतक से पुराने पारिवारिक कारण से रंजिश मानता था जिस कारण यह घटना कारित की गई। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से भ्रामक खबरें फैलाई जा रही हैं। कि अभियुक्तों द्वारा मार्किट के लोगों को डराया धमकाया गया। ये बात पूर्ण रूप से गलत व बेबुनियाद है। मुज़फ्फरनगर पुलिस द्वारा जल्द ही अभियुक्तों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाएगी। घटना की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंच गयी थी। घायल अवस्था मे व्यापारी को अस्पताल पहुंचाया जहां उनकी मौत हो गयी।


Comments