सिविल सर्विस में प्रथम स्थान पर चयनित इशिता किशोर का संगत-पंगत द्वारा सम्मान

 



नई दिल्ली21 जून।


 "सॅंगत- पॅंगत" कायस्थों का सामाजिक अभियान की ओर से 21 जून की शाम को नई दिल्ली के ओखला स्थित एसआईएस के कॉर्पोरेट ऑफिस में एक भव्य सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। इस मौके पर सेवा सर्विस एग्जाम 2023 में प्रथम स्थान पर अपना नाम दर्ज करने वाली सुश्री इशिता किशोर को सम्मानित किया गया। गौरतलब है कि पिछले 9 जून को दिल्ली के रफ़ी मार्ग स्थित कंस्टीटूशन क्लब में सिविल सेवा सर्विस एग्जाम 2023 में सफल हुए कुल 8 सफल कायस्थ नवजवानों/नवयुवतियों का सम्मान किया गया था।

 

समारोह का उद्घाटन संगत-पंगत के संस्थापक व पूर्व सांसद आर के सिन्हा ने किया। पूर्व सांसद आर के सिन्हा ने बताया कि सिविल सर्विस में सफल होकर अपने समाज का नाम रोशन कर रहे सभी होनहार बच्चों का सम्मान होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम संगत-पंगत के तहत समाज के हर तबके की मदद कर रहे हैं। अब तक हमने लगभग 10 करोड़ रूपये से लोगों को पढाईइलाजशादीखेल इत्यादि में मदद की है। इसलिए सभी कायस्थ समाज के बीच एकजुट होकर आगे बढ़ कर अपने आस-पास के लोगों की मदद करनी चाहिए।

 

संगत-पंगत की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में सभी गणमान्य अतिथियों ने देश सेवा के लिए इशिता किशोर और उनके परिवार को भविष्य की ढ़ेरों शुभकामनायें दी। इशिता किशोर ने अपने संबोधन में कहा कि मुझे सबसे ज्यादा प्रेरणा अपने नाना से मिली। जब मेरा 2 बार प्रीलिम्स नहीं निकल पाया तो मेरे मामा ने कहा कि इतनी जल्दी हिम्मत मत हरो और तीसरी बार में मुझे प्रथम स्थान मिला।

 

इस अवसर पर मुख्य अतिथि में सेबी के पूर्व चेयरमैन श्री यू. के. सिन्हा थे। उन्होंने कहा कि इस बात पर कोई संशय नहीं है कि यह सभी नए चयनित कायस्थ कड़ी मेहनतलगन और दृढ़निश्चय के बल पर इस मुकाम पर पहुंचे हैं। सिविल सर्विस का एकमात्र मकसद सेवा होना चाहिए न की शासन। अन्य विशिष्ट अतिथियों में कई सेवारत एवं सेवानिर्वित प्रशासनिक अधिकारी अपने परिवार के साथ शामिल हुयेजिनमें डॉ. अजीत कुमारश्री अनुपम श्रीवास्तवडॉ. अनूप श्रीवास्तवगौतमबुध यूनिवर्सिटी के वाईस चांसलर श्री आर. के. सिन्हाश्रीमती शिप्रा कुलश्रेष्ठ और श्री अशोक श्रीवास्तव थे। धन्यवाद प्रस्ताव श्रीमती रत्ना सिन्हा के द्वारा पेश किया गया था।

 


 

Comments