उपराष्ट्रपतियो की परंपरा का कलंकित अध्याय हामिद अंसारी का

 उपराष्ट्रपति चुनाव- अँसारी करते रहे पद की गरिमा तार-तार

 

आर.के. सिन्हा

भारत के अगले उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ बनेंगे या मार्गरेट अल्वाइस सवाल का उत्तर देश को आगामी 6 अगस्त को होने वाले उपराष्ट्रपति के चुनाव के नतीजे आने के बाद मिल जाएगा। अब तक डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णनडॉ. जाकिर हुसैन,वी.वी.गिरी,गोपाल स्वरूप पाठकबी.डी.जत्तिएम हिदायतउल्लाआर.वेंकटमणडॉ. शंकरदयाल शर्माडॉ. के. आर. नारायणनकृष्ण कांतभैंरोसिंह शेखावतहामिद अंसारी और वैंकया नायडू को देश के उपराष्ट्रपति बनने का गौरव मिला। बेशकये देश का अति महत्वपूर्ण पद है। पर कहना पड़ेगा कि मोहम्मद हामिद अंसारी ने अपने पद की गरिमा का ख्याल नहीं किया। वे सन 2007 से लेकर सन 2012 तक देश के उपराष्ट्रपति रहे। वे लगातार अपनी ओछी और गैर-जिम्मेदराना बयानबाजी से भारत को शर्मिंदगी डालते रहे। उपराष्ट्रपति पद से मुक्त होने के बाद भी वे लुटियन दिल्ली के भव्य राजसी सरकारी बंगले का सुख लेते हुए कहते रहते हैं कि भारत के मुसलमान अपने को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। उनकी केन्द्र में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के खिलाफ खुंदक समझ से परे है। हालांकि कहने वाले कहते हैं कि उन्हें उम्मीद थी कि मोदी सरकार उन्हें राष्ट्रपति बना देगी, पर यह नहीं हुआ। वे बस तब सब से ही बोले जा रहे हैं। वे अपनी कुंठा को छिपा नहीं पाते। वे कहते रहते हैं कि भारतीय मुसलमान 2014 के बाद से असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। उसी साल नरेन्द्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने थे। अंसारी साहब ने कभी देश के दलितोंपिछड़ों और आदिवासियों के हक में आवाज नहीं उठाई। वे तो अपने को मुसलमानों का प्रवक्ता बनाने पर आमादा हैं। उन्होंने कभी यह नहीं पूछा कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में दलितों और पिछड़ों को आरक्षण क्यों नहीं दिया जाता। ये सारी बातें सिद्ध करती हैं कि बहुत महत्वाकांक्षी और हल्के किस्म के इंसान हैं अंसारी साहब । बहरहाल, देश की चाहत रहेगी कि उसे भविष्य में कभी हामिद साहब जैसा उपराष्ट्रपति न मिले। वे अपने को बहुत बड़ा ज्ञानी बताते हैं। काशउन्होंने अपने पूर्ववर्तियों के बारे में जाना होता तो उनका आचरण कुछ सही हो जाता।

 भारत के पहले उपराष्ट्रपति थे डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन। उन्होंने उप राष्ट्रपति रहते हुए राष्ट्र निर्माण में रचनात्मक योगदान दिया। उन्हीं की पहल पर राजधानी को इंडिया इंटरनेशनल सेंटर (आईआईसी) मिला था। डॉ. राधाकृष्णन ने 1958 देश के तब के प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु से इच्छा जताई थी कि राजधानी में कोई इस तरह की जगह बन जाए जिधर पढ़ने-लिखने की दुनिया से जुड़े लोग मिल-बैठ करते रहें। उनकी सलाह नेहरु जी को पसंद आ गई। उन्होंने बिना देर किए शहरी विकास मंत्रालय को निर्देश दिए किए वह एक प्लाट अलाट करे। नेहरु जी के निर्देश के बाद देरी होने का सवाल ही नहीं था। तब लोधी गार्डन से सटे 4.76 एकड़ का प्लाट आईआईसी के लिए अलॉट किया गया। इसका प्लाट मिलने के बाद डॉ. राधाकृष्नन ने आईआईसी को खड़ा करने के लिए वित्त मंत्री डॉ सी.डी.देशमुखप्रो. एच.एन. कुंजरूप्रो. हुमायूं कबीर (जॉर्ज फर्नाडीज के ससुर)दिल्ली स्कूल आफ इक्नोमिक्स के डायरेक्टर डॉ वीकेआरवी राव वगैरह को जोड़ा। इसका डिजाइन तैयार किया महान आर्किटेक्ट जोसेफ एलेन स्टाइन ने। इसके लाजवाब डिजाइन ने उन्हें खूब ख्याति दिलवाई। स्टाइन साहब ने आईआईसी में जालियों और छज्जों को जगह दी।

अँसारी साहब से पहले ड़ॉ. जाकिर हुसैन तथा मोहम्मद हिदायतुल्लाह देश के मुस्लिम समाज से आने वाले उपराष्ट्रपति बने थे। दोनों की शानदार शख्सियत थी। डॉ. जाकिर हुसैन चोटी के शिक्षाविद् और स्वाधीनता सेनानी भी थे। इन दोनों की भारत के धर्मनिरपेक्ष मूल्यों के प्रति आस्था निर्विवाद थी। पर अँसारी साहब अपने को पहले मुसलमान साबित करने में लगे रहते हैं। मोहम्मद हिदायतुल्लाह 53 साल की आयु में सुप्रीम कोर्ट के जज बने। उन्हें 28 फरवरी 1968 को देश का चीफ जस्टिस बनाया गया था। वे देश के 1979 से 1984 तक उपराष्ट्रपति रहे। इस दौरान राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह जब इलाज के लिए अमेरिका गए तो उन्होंने 6 अक्तूबर 1982 से 31 अक्तूबर 1982 तक कार्यवाहक राष्ट्रपति के रूप में भी काम किया। वे बेहद सुलझे हुए इंसान थे। सारा देश उनकी विद्वता को स्वीकार करता था। यहां पर भैंरो सिंह शेखावत के उपराष्ट्रपति काल का जिक्र करना समीचिन रहेगा। वे जब उपराष्ट्रपति थे तब उप राष्ट्रपति आवास के गेट आम-खास सब के लिए खुले रहते थे। भैरों सिंह शेखावत 19 अगस्त 2002  से 21 जुलाई 2007 तक उपराष्ट्रपति रहे। वे  राजस्थान के मुख्यमंत्री भी रहे। भैरोंसिंह शेखावत का जन्म तत्कालिक जयपुर रियासत के गाँव खाचरियावास में हुआ था। यह गाँव अब राजस्थान के सीकर जिले में है।  शेखावत जी को मित्रों के बीच रहन पसंद था। वे किस्सागो इंसान थे। उनके पास मिलने वालों की भीड़ कभी कम नहीं होती थी। वे गर्मागर्म चाय पिलाकर अतिथियों से विस्तार से वार्तालाप करते थे।गंभीर राजनीति हो या तनाव के लम्हेशेखावत हास्य के क्षण ढूंढ लेते थे। ये उनकी जीवटता की खुराक थी। उनके दोस्त सभी दलों में थेशायद सभी दिलो में भी। भारत के पूर्व उपराष्ट्रपति रहे भैरों सिंह शेखावत राजस्थान की सियासत में ऐसे वटवृक्ष थे जिनकी छांव एक बड़ा दायरा बनाती थी। उनके विरोधी तो थेमगर शत्रु कोई नहीं। वो ख़ुद भी कहते थे, "मैं दोस्त बनाता हूँ...दुश्मन नहीं।"

 देश के निवर्तमान उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी उप राष्ट्रपति पद को गरिमा प्रदान की। उनकी छवि भी एक 'आंदोलनकारीकी रही। वे 1972 में 'जय आंध्र आंदोलनके दौरान पहली बार सुर्खियों में आए थे। उन्होंने इस दौरान नेल्लोर के आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लेते हुये विजयवाड़ा से आंदोलन का नेतृत्व किया। छात्र जीवन में उन्होंने लोकनायक जयप्रकाश नारायण की विचारधारा से प्रभावित होकर आपातकालीन संघर्ष में हिस्सा लिया। वे आपातकाल के विरोध में सड़कों पर उतर आए और उन्हें जेल भी जाना पड़ा। वे बेहतरीन मेजबान भी हैं। सबसे खूब प्रेम से मिलते-जुलते हैं। उपराष्ट्रपति के रूप में भी उनका कार्यकाल शानदार रहा। वे अपनी बात कहने से कभी पीछे नहीं हटते। वैंकया नायडू उपराष्ट्रपति पद से मुक्त होने के बाद अपने संतुलित और सकारात्मक विचारों से निश्चित रूप से देश का मार्गदर्शन करते रहेंगे।

(लेखक वरिष्ठ संपादकस्तभकार और पूर्व सांसद हैं)

Comments
Popular posts
सड़क किनारे मिली वृद्धा की लाश
Image
बेसिक शिक्षा अधिकारी सही पर उनका तरीका गलत,जाँच में आंच की संभावना कम
कृष्ण देव मिश्र बस्ती प्रेस क्लब के चुनाव अधिकारी होंगे
*पं. गणेश प्रसाद मिश्र सेवा न्यास द्वारा सतना में पर्यावरण व स्वास्थ्य शिविर के कार्य शहर की ज़रूरत : योगेश ताम्रकार * *848 मरीज़ों का 16 जिलों से आये आनलाइन पंजीयन उल्लेखनीय सेवा कार्य: उत्तम बनर्जी * * तिरंगा ध्वज व वृक्षारोपण राष्ट्रीय अभियान में सभी संगठनों से सहयोग की अपील: कलेक्टर अनुराग वर्मा * *मेदांता द्वारा आयोजित दो-दिवसीय निःशुल्क चिकित्सा शिविर उद्घाटित: शंकरलाल तिवारी * *मेदांता हॉस्पिटल दिल्ली के डॉक्टरों की टीम ने पहले दिन 534 मरीजों का किया परीक्षण एवं 1693 जाँचें हुईं।*
Image
आई जी आर यस शिकायतों के निस्तारण में स्वास्थ्य,वेसिक शिक्षा, पंचायती राज विभाग कलक्टर की क्लास में पूरे फेल
Image