अमृत महोत्सव का समापन,राष्ट्रवाद की सर्वत्रानुगूँज

कौटिल्य वार्ता
By -
0

 


बस्ती 18 अगस्त 2022 

आजादी के अमृत महोत्सव साप्ताहिक कार्यक्रमों का समापन राजकीय बालिका इण्टर कालेज में आजादी पर आयोजित परिचर्चा, छात्राओं द्वारा प्रस्तुत देश भक्तिगीत तथा अन्त में कवि सम्मेलन से हुआ। गोष्ठी के मुख्य अतिथि जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष एंव वरिष्ठ पत्रकार, हिन्दी संस्थान के कबीर सम्मान से पुरस्कृत राजेन्द्र नाथ तिवारी ने युवाओं का आह्वान किया कि वे देश की आजादी को अक्षुण्य बनाये रखने के लिए राष्ट्रीय एकता और अखण्डता का संकल्प लें।
उन्होने कहा कि काफी मुश्किलों, संघर्ष के बाद में आजादी मिली है। इसके लिए हमारे अमर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने अपने जीवन का सर्वोच्च बलिदान भी दिया है। आज भी हमारे बीर सैनिक सीमाओं पर दुश्मनों से लोहा ले रहें है। हमें अपने अन्दर हमेंशा देशप्रेम और राष्ट्रभक्ति की ज्वाला को प्रज्जवलित रखना है ताकि कोई भी दुश्मन हमारी ओर ऑख उठाकर न देख सकें।
सक्सेरिया इण्टर कालेज के सेनानिवृत्त प्रवक्ता तारकेश्वर प्रकाश मिश्र ने सिलसिलेवार 1857 क्रान्ति से 1947 में आजादी प्राप्त करने तक के आन्दोलनों की चर्चा किया। गोष्ठी का संचालन शिक्षिका मानवी सिंह ने किया।


गोष्ठी के पश्चात् राजकीय बालिका इण्टर कालेज तथा मिस्टीरिएस एकेडमी की छात्राओं द्वारा देशभक्ति गीत पर आकर्षक नृत्य प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर प्रधानाचार्या श्रीमती नीलम सिंह, पूर्णिमा श्रीवास्तव तथा अभिभावकगण उपस्थित रहें।
देर रात तक चले कवि सम्मेलन का संचालन डा. रामकृष्ण लाल जगमग ने किया। इसका शुभारम्भ शिवा त्रिपाठी ने सरस्वती वंदना से किया। प्रेसक्लब अध्यक्ष विनोद कुमार उपाध्याय ने- हर एक घर में इबादत बहुत जरूरी है। वतन पर मिटने की चाहत बहुत जरूरी है। गजल प्रस्तुत करके कार्यक्रम को ऊचाई प्रदान किया। बेबसी पास आ नही सकती, कोई ताकत झुका नही सकती। जिसके सर पर हो मॉ तेरा ऑचल, उसको दुनिया मिटा नही सकती। अफजल हुसैन अफजल की इस गजल से कार्यक्रम में जान आ गयी। हे देशभक्त जाबाज वतन के रखवालों, कोटि नमन करते है तुमको कोटि नमन, प्रस्तुत करके डा. राजेन्द्र सिंह राही ने बलिदानियों को नमन किया।
डा. रामकृष्ण लाल जगमग ने वीर शहीदों को श्रंद्धासुमन अर्पित करते हुए-वीर शहीदों की समाधि पर श्रंद्धा के कुछ सुमन चढाये, आजादी का अमृत महोत्सव, आओ हम सब लोग मनाये। डा. अजीत श्रीवास्तव राज ने वीरों की ये मातृभूमि बदनाम नही होने देंगे, भगत सिंह की कुर्वानी की शाम नही होने देंगे आजादी गीत प्रस्तुत किया। कवि सम्मेलन में सागर गोरखपुरी, दीपक सिंह प्रेमी, डा. वी.के. वर्मा, तारकेश्वर प्रसाद मिश्र, शिवा त्रिपाठी, सुभाष दुबे ने भी अपनी रचनाए प्रस्तुत किया। इसकी अध्यक्षता सत्येन्द्र नाथ मतवाला ने किया।
कवि सम्मेलन के अन्त में जिलाधिकारी श्रीमती प्रियंका निरंजन ने अपनी दो लाईनों के माध्यम से वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित किया तथा सफल कवि सम्मेलन के लिए सभी कवि एवं श्रोताओं को धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होने सभी कवियों को शाल ओढाकर सम्मानित किया। इस अवसर पर सीडीओ डा. राजेश कुमार प्रजापति, डीडीओ अजीत श्रीवास्तव, बीएसए इन्द्रजीत प्रजापति, डा. ए.के. कुशवाहॉ, डा. श्रेया, सचिन चौरसिया, अनिल श्रीवास्तव, विवेक चौधरी तथा गणमान्य नागरिक उपस्थित रहें।      

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)