करोङो की जमीन के बदले धन लेकर ग्लोबल इंफोटेक का डायरेक्टर भगा! पुलिस कार्यालय के सामने का मामला!

 बस्ती, उत्तरप्रदेश,8 नवम्बर 20

पुलिस कार्यालय के सामने करोड़ों रुपए की सरकारी जमीन को एक चिटफंड कंपनी द्वारा बेचे जाने का मामला प्रकाश में आया है ।रजिस्ट्री विभाग ने  भी ऐसे पावर ऑफ अटॉर्नी के आधार पर बनाम कर दिया जो पंजीकृत ही नहीं है ।इस मामले में नगर पालिका और रजिस्ट्री विभाग दोनों की भूमिका सन्देह के घेरे में है । कहां जा रहा है यह दोनों के चलते जमा कर्ताओं की करोड़ो की रकम डूब गई ।

पकड़े जाने के डर से आज तक कंपनी का डायरेक्टर बस्ती नहीं आया। इस जमीन पर मकान दिखा कर करोड़ों रुपए वसूलने का मामला भी प्रकाश में आया है ।आश्चर्य करने वाली बात है कि खाली जमीन को पालिका ने मकान दर्ज किया वह जमीन आज भी खाली पड़ी है ।स्थिति यह है कि मकान के शहारे चिटफंड कंपनी ने जमा कर्ताओं की अच्छी खासी  रकम को हड़प लिया ।अब नगर पालिका की ओर से क्रेता को नोटिस जारी की जा रही है कहा जा रहा है कि मामला दीवानी न्यायालय में होने के बाद भी नगर पालिका ने इसका खारिज दाखिल कर दिया । इसे खारिज करने के लिए पालिका में मकान नंबर3 140 ,3141को निरस्त करने की दरखास्त भी दी गई है। जमा कर्ताओं दीवानी में जमीन बेचकर भुगतान करने का वाद भी किया है नगर पालिका नगरपालिका के अभिलेखों के मुताबिक जिला सहकारी बैंक और पुलिस अधीक्षक कार्यालय के सामने 120.76 वर्ग मीटर जमीन ग्लोबल जियो इंफ्राटेक लिमिटेड पोद्दार टावर धमाल कानपुर डायरेक्टर अमित सिंह ने 45 लाख रुपए में सत्यनारायण जायसवाल निवासी पांडे बाजार मेहदावल रोड बस्ती एवं कसया कुशीनगर  के हाथ से 14 जुलाई 20 को बेच दिया ।

 स्टांप शुल्क के रूप में ₹315000 जमा किया गया वैसे ही जमीन की बाजारों कीमत करोड़ रुपए से ऊपर रखी गई है गवाह के खेत में रामचरित निराला अवधेश पांडे का नाम दर्ज है बताया जाता है कि जमीन के पहले सरकारी अभिलेखों में गांधीनगर के मुस्लिम परिवार के नाम थी उसिनेअवसर का लाभ उठा कर बेच दिया।
खाली जमीन  पर कम्पनी के जनरल डायरेक्टर अमित सिंह का नाम अंकित है।,बाद में यही जमीन ग्लोबल इंफोटेक के नाम नगरपालिका, और अमित सिंह की दुरभि सन्धि से हो गयी।
अब मामला दबाने का पूरा प्रयास हो रहा है ।.

Comments