तीन ब्राह्मण बच्चों के शव देख, परिजन बोले हत्या, पुलिस बोली डूबने से हुई मौत

!


मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ

 यूपी के मिर्जापुर में विंध्याचल के लेहड़िया बंधी में बुधवार शाम तीन चचेरे भाइयों के शव मिलने से सनसनी फैल गई। तीनों की आंखें गायब थीं। दो के शरीर पर चाकू से वार के निशान भी मिले। परिजनों ने हत्या का आरोप लगाते हुए लहंगपुर में सड़क जाम कर दिया। मंगलवार की दोपहर तीनों एक साथ घर से निकले थे। पुलिस तीनों बच्चों की बंधी में डूबने से मौत बता रही है। लालगंज के बामी गांव निवासी राकेश तिवारी का पंद्रह वर्षीय बेटा शिवम तिवारी, राजेश तिवारी का 14 वर्षीय बेटा  सुधांशु व मुन्ना तिवारी का 15 वर्षीय बेटा  हरिओम तिवारी मंगलवार की दोपहर धसड़ा गांव के जंगल में मकोए व बेर खाने निकले थे। देर शाम तक वापस नहीं लौटने पर परिजन परेशान हो गए। घर वालों ने आसपास गांव व रिश्तेदारों के यहां तलाश की। लेकिन कुछ पता नहीं चला। बुधवार सुबह परिजनों ने लालगंज पुलिस को सूचना दी। 


विंध्याचल के लेहड़िया बंधी के भीटे पर तीनों बच्चों के कपड़े व चप्पल देख पुलिस ने बंधी में तलाश शुरू कराई। दोपहर बाद ग्रामीणों की मदद से पुलिस ने बंधी से तीनों बच्चों का शव बाहर निकलवाया। परिजनों ने बताया कि तीनों बच्चों की आंखें गायब थीं। हरिओम व शिवम के शरीर पर चाकू के निशान भी मिले। आक्रोशित परिजनों ने हत्या कर शव बंधी में फेंके जाने का आरोप लगाया। मुकदमा दर्ज न होने पर परिजन व ग्रामीणों ने लालगंज के लहंगपुर के पास ट्रैक्टर पर बच्चों के शव रखकर चक्काजाम कर दिया। पुलिस देर शाम तक परिजनों को समझाने के प्रयास में जुटी रही। अपर पुलिस अधीक्षक महेश अत्री का कहना है कि बामी गांव के लापता तीन भाइयों के शव लेहड़िया बंधी में मिले हैं। बच्चों की बंधी में डूबने से मौत हुई है। शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। रिपोर्ट के आधार पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Comments