बस्ती सांसद खेल पर्व में राष्ट्रीय अध्यक्ष अभिभूत , मुख्यमंत्री ने कहा स्वर्ण पदक खिलाड़ी लाए, नौकरी हम डी दंगे,उज्ज्वल भारत का विधाता 140करोड़ मतदाता,जेपी नड्डा

कौटिल्य वार्ता
By -
0

 

बस्ती 20 दिसम्बर 

 प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि खेलों में पदक विजेता 500 खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी दी गयी है। आने वाले समय में 500 अन्य खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी दी जायेंगी। मुख्यमंत्री ने शहीद सत्यवान सिंह स्पोटर्स स्टेडियम, बस्ती में आयोजित तीसरे सांसद खेल महाकुम्भ का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलित करके किया। इसके बाद कबड्डी खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त किया तथा उन्हें शुभकामनाए दिया। समारोह को सम्बोधित करते हुए उन्होने कहा है कि ओलम्पिक एशियन गेम्स, कामनवेल्थ गेम, विश्वस्तरीय प्रतियोगिताओं में भाग लेकर पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को नकद पुरस्कार दिया जा रहा है।  
उन्होने कहा कि मा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा एवं मार्गदर्शन में खेलो इण्डिया तथा फिट इण्डिया मूवमेन्ट प्रदेश में संचालित किया जा रहा है। उन्होने कहा कि प्रदेश में खेल को बढावा देने के लिए प्रत्येक जिले में एक स्टेडियम, ब्लाक में मिनी स्टेडियम तथा ओपेन जिम एवं ग्राम पंचायत में खेल मैदान बनाया जा रहा है। 65 हजार युवक एवं युवती मंगल दल को स्पोटर्स किट वितरित किए जा चुके है।


उन्होने कहा कि पिछले साढ़े नौ वर्ष में नवभारत का निर्माण हुआ है तथा 142 करोड़ लोगों को बिना भेदभाव के योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है। भारत को आगे बढाने तथा विश्व में स्थान दिलाने के लिए हर भारतवासी को अपना योगदान देना होंगा। उन्होने कहा कि मुण्डेरवा चीनी मिल के माध्यम से किसानों को खुशहाल बनाया जा रहा है, युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है तथा महिलाओं की सुरक्षा पर विशेष बल दिया गया है।
उन्होने कहा कि पूर्व स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा जी का बस्ती से विशेष लगाव है, क्योकि भारत सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए उन्होेने पूरे देश में 6 मेडिकल कालेज स्वीकृत किया था, उसमें से बस्ती भी एक है। उनके नेतृत्व में हमने इंसेफ्लाईटिस/दिमागी बुखार के उन्मूलन का संकल्प लिया था और उसे समाप्त किया है।
  राज्यसभा सदस्य जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि नये भारत का प्रतिबिम्ब बस्ती के नवजवानों में दिख रहा है। सांसद खेल महाकुम्भ के पहले साल एक लाख खिलाड़ियों ने भाग लिया था और अब तीसरे साल साढे तीन लाख खिलाड़ी इसमें प्रतिभाग किये है। इसके लिए उन्होने सांसद हरीश द्विवेदी तथा उनकी पूरी टीम को बधाई दिया है।


उन्होने कहा कि पिछले 9 सालों में आयोजित हुए ओलम्पिक एशियन गेम्स खेलों में पदको की संख्या में वृद्धि हुयी है, निश्चित रूप से इसके पीछे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नीति एवं नीयत का योगदान है। 2014 में खेलों के लिए 1219 करोड़ रूपये की व्यवस्था थी, जबकि 2023 में 3397 करोड़ रूपये रखा गया है। टारगेट ओलम्पियन पोडियम टारगेट निर्धारित किया गया। विदेशों में टेªनिंग की व्यवस्था की गयी, विश्वस्तरीय गुणवत्ताा वाले संसाधनों की उपलब्धता करायी गयी।
उन्होने कहा कि भारत सरकार द्वारा खिलाडियों के लिए 50 हजार रूपये प्रतिमाह स्टाइपेन्ड की व्यवस्था की गयी। विभिन्न खेलों में प्रशिक्षण देने के लिए 8 हजार कोच की व्यवस्था की गयी, जिसमें से 5 हजार पुरूष तथा 3 हजार महिलाए है। 34 कोचिंग सेण्टर बनाये गये। खेलो इण्डिया कार्यक्रम में ढाई हजार खिलाड़ियों के लिए 1 हजार करोड़ रूपये की व्यवस्था की गयी। 820 खेल सेण्टर बनाये गये, जिसमें से 80 उत्तर प्रदेश में है। स्किल इण्डिया, राष्ट्रीय शिक्षा नीति, राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति भारत को मजबूती प्रदान कर रहे है।


       उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत 11वें नम्बर की अर्थ व्यवस्था विश्व में अब पाचवें नम्बर पर आ गयी है। साढे तेरह करोड़ परिवार गरीबी रेखा से ऊपर आ गये है। नेशनल हाईवे, एक्सप्रेस-वे, मेडिकल कालेज, एम्स का निर्माण कराया गया है। गुणवत्तापूर्ण दवा का एक्सपोर्ट 148 प्रतिशत तथा पेट्रो केमिकल का 106 प्रतिशत एक्सपोर्ट बढा है। रक्षा क्षेत्र में प्रयोग होने वाले सामानों का उत्पादन भारत स्वयं कर रहा है। तीन साल में पॉच लाख से अधिक बुलेटप्रूफ जैकेट भारतीय सुरक्षा कर्मियों को दिया गया है और इसका विदेशों को एक्सपोर्ट किया जा रहा है। भारत में राफेल का बेड़ा आया है, पनडुब्बी एवं लडाकू जहाज देश में ही बनाये जा रहे है।
       प्रदेश के खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गिरीश चन्द्र यादव ने कहा कि वर्ष 2023 की खेल नीति पूरी तरह खिलाड़ियों के हित में है। एक जनपद एक खेल योजना के अन्तर्गत प्रत्येक खेल के लिए एक प्रशिक्षक तैनात किया जा रहा है। भारत सरकार की तर्ज पर खेल विकास प्राधिकरण का गठन किया जा रहा है, जिसके अन्तर्गत खेल संसाधनों को बढाया जायेंगा। एकलब्य कोष की स्थापना की गयी है, जिसमें अन्तर्गत एक स्थान से दूसरे स्थान पर खेलने जाने वाले खिलाड़ियों को आर्थिक सहायता दी जायेंगी। इस दौरान दुर्घटना होने पर खिलाड़ी को 5 लाख रूपये तक इलाज की सहायता उपलब्ध करायी जायेंगी।
      प्रदेश के सूक्ष्म लघु, मध्यम उद्योग मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री राकेश सचान ने कहा कि योगी सरकार में खेल और खिलाड़ियों की सुविधाओं में वृद्धि हुयी है। अतिथियों का स्वागत करते हुए सांसद हरीश द्विवेदी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा से ग्रामीण पृष्ठभूमि के खिलाड़ियों को आगे बढाने का कार्य इस आयोजन के माध्यम से किया जा रहा है। इसमें 27 प्रकार के खेल आयोजित किए जाते है। 8 दिन तक ब्लाक स्तरीय खेल आयोजित होते है। इसके अलावा निबन्ध, चित्रकला की प्रतियोगिताए भी आयोजित की जाती है। समारोह को प्रदेश अध्यक्ष भूपेेन्द्र चौधरी, जिला पंचायत अध्यक्ष संजय चौधरी, विधायक अजय सिंह ने भी सम्बोधित किया।
       कार्यक्रम का संचालन विवेकानन्द मिश्र ने किया। इस अवसर पर परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह, एमएलसी सुभाष यदुवंश, गोविन्द नारायण शुक्ल, धर्मपाल सिंह, सहजानन्द राय, समीर सिंह, मण्डलायुक्त अखिलेश सिंह, आईजी आर.के. भारद्वाज, जिलाधिकारी अंद्रा वामसी, पुलिस अधीक्षक गोपाल कृष्ण चौधरी, सीडीओ जयदेव सीएस, जनप्रतिनिधिगण, विभागीय अधिकारी, खिलाड़ी उपस्थित रहें।


 

Post a Comment

0Comments

Please Select Embedded Mode To show the Comment System.*