जिला धिकारी बस्ती विकास कार्यो से असंतुष्ट,अधिकारियों को चेताया!

कौटिल्य वार्ता
By -
0

 बस्ती 04 सितम्बर 

 


बस्ती 04 सितम्बर 2022 सू.वि., बस्ती 04 सितम्बर
., जिलाधिकारी श्रीमती प्रियंका निरंजन के शनिवार के दौरे में विकास कार्यों की गुणवत्ता की पोल खुल गई। उनके निरीक्षण में जो खामियां मिली उसके मद्देनजर सीडीओ ने सात अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। इसमें एक अधिशासी अभियंता पीडब्ल्यूडी, 02 बीडीओ, 02 खंड शिक्षा अधिकारी तथा 03 अन्य ब्लॉक स्तरीय अधिकारी हैं।
       जिलाधिकारी ने शनिवार को विकासखंड परसरामपुर के ग्राम बसेवाराय में स्थित अटल आवासीय विद्यालय का निरीक्षण किया। हर्रैया से जाते हुए रास्ते में परसा चौराहे से परसरामपुर मार्ग के बीच श्रृंगीनारी मोड की तरफ लगभग 100 मीटर सड़क टूटी हुई पाई गई। सड़क की इस स्थिति पर जिलाधिकारी ने अत्यंत नाराजगी व्यक्त किया तथा अधिशासी अभियंता प्रांतीय खंड पीडब्ल्यूडी को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए 5 दिन के भीतर इसे पूर्ण करा कर अनुपालन आख्या उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।
         जिलाधिकारी ने इसके बाद विकासखंड गौर के अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय कुनगाई बुजुर्ग का निरीक्षण किया। यहां पर बाउंड्रीवाल का निर्माण कार्य चल रहा है किंतु मसाले की गुणवत्ता संतोषजनक नहीं है। परिसर में स्थापित बालक, बालिका शौचालय की स्थिति काफी खराब है। 2 कक्षाओं के दरवाजे नीचे से टूटे हुए पाए गए। मल्टीपल हैंडवॉश केवल शोपीस बन कर रहा गया है। मौके पर निर्माण कार्य के दौरान ना तो ग्राम प्रधान और ना ही कोई कर्मचारी उपस्थित पाया गया। इस स्थिति के लिए बीडीओ, खंड शिक्षा अधिकारी, सहायक विकास अधिकारी पंचायत गौर तथा ग्राम पंचायत के सचिव को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए निर्देशित किया गया है कि 10 दिन के भीतर गुणवत्तापूर्ण कार्य करा कर अवगत कराएं। साथ ही यह भी स्पष्ट करें कि बैठकों में बार-बार निर्देश दिए जाने के बावजूद बाउंड्रीवाल के निर्माण कार्य में किन परिस्थितियों में लापरवाही बरती गई? समय से उत्तर न पाए जाने पर वेतन रोका जाएगा तथा एकपक्षीय कार्यवाही प्रारंभ कर दी जाएगी।
       इसके पश्चात् जिलाधिकारी ने प्राथमिक विद्यालय श्रृंगीनारी, मिश्रौलियाधीश, सरैया खास का निरीक्षण किया। निरीक्षण में उन्होंने पाया कि विद्यालय की बाउंड्रीवाल का निर्माण कार्य अभी प्रारंभ ही नहीं हुआ है। जबकि पिछले 1 महीने से अधिक समय से बाउंड्रीवाल निर्माण कराने के लगातार निर्देश दिए जा रहे हैं। तमाम निर्देशों के बावजूद कार्य में लापरवाही बरतना अत्यंत गंभीर है। इस संबंध में जिलाधिकारी ने अत्यंत नाराजगी व्यक्त करते हुए 3 दिन के भीतर निर्माण कार्य शुरू कराने का निर्देश दिया है। साथ ही खंड विकास अधिकारी तथा खंड शिक्षा अधिकारी गौर एवं परशुरामपुर को कार्य न शुरू कराने के लिए 3 दिन के भीतर अपना स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है। समय से उत्तर प्राप्त ना होने पर वेतन रोकते हुए एकपक्षीय कार्यवाही प्रारंभ कर दी जाएगी।
      जिलाधिकारी ने श्रृंगीनारी मंदिर का निरीक्षण किया। निरीक्षण में पाया गया कि मंदिर परिसर एवं उसके अगल-बगल चारों तरफ अत्यधिक मात्रा में गंदगी पड़ी हुई है जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए 2 दिन के भीतर पूरी तरह सफाई कराने एवं नियमित रूप से सफाई कराने के लिए जिला पंचायत राज अधिकारी तथा खंड विकास अधिकारी परसरामपुर को सख्त निर्देश दिया है। यदि दोबारा निरीक्षण में गंदगी पाई गई तो इसे गंभीरता से लेते हुए कड़ी कार्यवाही प्रस्तावित की जाएगी।
       जिलाधिकारी ने पर्यटन अधिकारी को निर्देशित किया है कि जनपद में संचालित निर्माण कार्यों की प्रगति से अवगत कराएं। क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी को लिखे गए पत्र में सीडीओ डॉ. राजेश कुमार प्रजापति ने कहा है कि रिपोर्ट स्थलवार एवं कार्यदाई संस्थावार अद्यतन होनी चाहिए। जिलाधिकारी द्वारा 7 सितंबर को इसकी समीक्षा की जाएगी, इसलिए बैठक में भी अनिवार्य रूप से उपस्थित रहे। रिपोर्ट के साथ फोटोग्राफ भी लगाएं।
जिलाधिकारी श्रीमती प्रियंका निरंजन के शनिवार के दौरे में विकास कार्यों की गुणवत्ता की पोल खुल गई। उनके निरीक्षण में जो खामियां मिली उसके मद्देनजर सीडीओ ने सात अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। इसमें एक अधिशासी अभियंता पीडब्ल्यूडी, 02 बीडीओ, 02 खंड शिक्षा अधिकारी तथा 03 अन्य ब्लॉक स्तरीय अधिकारी हैं।
       जिलाधिकारी ने शनिवार को विकासखंड परसरामपुर के ग्राम बसेवाराय में स्थित अटल आवासीय विद्यालय का निरीक्षण किया। हर्रैया से जाते हुए रास्ते में परसा चौराहे से परसरामपुर मार्ग के बीच श्रृंगीनारी मोड की तरफ लगभग 100 मीटर सड़क टूटी हुई पाई गई। सड़क की इस स्थिति पर जिलाधिकारी ने अत्यंत नाराजगी व्यक्त किया तथा अधिशासी अभियंता प्रांतीय खंड पीडब्ल्यूडी को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए 5 दिन के भीतर इसे पूर्ण करा कर अनुपालन आख्या उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।
         जिलाधिकारी ने इसके बाद विकासखंड गौर के अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय कुनगाई बुजुर्ग का निरीक्षण किया। यहां पर बाउंड्रीवाल का निर्माण कार्य चल रहा है किंतु मसाले की गुणवत्ता संतोषजनक नहीं है। परिसर में स्थापित बालक, बालिका शौचालय की स्थिति काफी खराब है। 2 कक्षाओं के दरवाजे नीचे से टूटे हुए पाए गए। मल्टीपल हैंडवॉश केवल शोपीस बन कर रहा गया है। मौके पर निर्माण कार्य के दौरान ना तो ग्राम प्रधान और ना ही कोई कर्मचारी उपस्थित पाया गया। इस स्थिति के लिए बीडीओ, खंड शिक्षा अधिकारी, सहायक विकास अधिकारी पंचायत गौर तथा ग्राम पंचायत के सचिव को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए निर्देशित किया गया है कि 10 दिन के भीतर गुणवत्तापूर्ण कार्य करा कर अवगत कराएं। साथ ही यह भी स्पष्ट करें कि बैठकों में बार-बार निर्देश दिए जाने के बावजूद बाउंड्रीवाल के निर्माण कार्य में किन परिस्थितियों में लापरवाही बरती गई? समय से उत्तर न पाए जाने पर वेतन रोका जाएगा तथा एकपक्षीय कार्यवाही प्रारंभ कर दी जाएगी।
       इसके पश्चात् जिलाधिकारी ने प्राथमिक विद्यालय श्रृंगीनारी, मिश्रौलियाधीश, सरैया खास का निरीक्षण किया। निरीक्षण में उन्होंने पाया कि विद्यालय की बाउंड्रीवाल का निर्माण कार्य अभी प्रारंभ ही नहीं हुआ है। जबकि पिछले 1 महीने से अधिक समय से बाउंड्रीवाल निर्माण कराने के लगातार निर्देश दिए जा रहे हैं। तमाम निर्देशों के बावजूद कार्य में लापरवाही बरतना अत्यंत गंभीर है। इस संबंध में जिलाधिकारी ने अत्यंत नाराजगी व्यक्त करते हुए 3 दिन के भीतर निर्माण कार्य शुरू कराने का निर्देश दिया है। साथ ही खंड विकास अधिकारी तथा खंड शिक्षा अधिकारी गौर एवं परशुरामपुर को कार्य न शुरू कराने के लिए 3 दिन के भीतर अपना स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है। समय से उत्तर प्राप्त ना होने पर वेतन रोकते हुए एकपक्षीय कार्यवाही प्रारंभ कर दी जाएगी।
      जिलाधिकारी ने श्रृंगीनारी मंदिर का निरीक्षण किया। निरीक्षण में पाया गया कि मंदिर परिसर एवं उसके अगल-बगल चारों तरफ अत्यधिक मात्रा में गंदगी पड़ी हुई है जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए 2 दिन के भीतर पूरी तरह सफाई कराने एवं नियमित रूप से सफाई कराने के लिए जिला पंचायत राज अधिकारी तथा खंड विकास अधिकारी परसरामपुर को सख्त निर्देश दिया है। यदि दोबारा निरीक्षण में गंदगी पाई गई तो इसे गंभीरता से लेते हुए कड़ी कार्यवाही प्रस्तावित की जाएगी।
       जिलाधिकारी ने पर्यटन अधिकारी को निर्देशित किया है कि जनपद में संचालित निर्माण कार्यों की प्रगति से अवगत कराएं। क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी को लिखे गए पत्र में सीडीओ डॉ. राजेश कुमार प्रजापति ने कहा है कि रिपोर्ट स्थलवार एवं कार्यदाई संस्थावार अद्यतन होनी चाहिए। जिलाधिकारी द्वारा 7 सितंबर को इसकी समीक्षा की जाएगी, इसलिए बैठक में भी अनिवार्य रूप से उपस्थित रहे। रिपोर्ट के साथ फोटोग्राफ भी लगाएं।

का निरंजन के शनिवार के दौरे में विकास कार्यों की गुणवत्ता की पोल खुल गई। उनके निरीक्षण में जो खामियां मिली उसके मद्देनजर सीडीओ ने सात अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। इसमें एक अधिशासी अभियंता पीडब्ल्यूडी, 02 बीडीओ, 02 खंड शिक्षा अधिकारी तथा 03 अन्य ब्लॉक स्तरीय अधिकारी हैं।

       जिलाधिकारी ने शनिवार को विकासखंड परसरामपुर के ग्राम बसेवाराय में स्थित अटल आवासीय विद्यालय का निरीक्षण किया। हर्रैया से जाते हुए रास्ते में परसा चौराहे से परसरामपुर मार्ग के बीच श्रृंगीनारी मोड की तरफ लगभग 100 मीटर सड़क टूटी हुई पाई गई। सड़क की इस स्थिति पर जिलाधिकारी ने अत्यंत नाराजगी व्यक्त किया तथा अधिशासी अभियंता प्रांतीय खंड पीडब्ल्यूडी को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए 5 दिन के भीतर इसे पूर्ण करा कर अनुपालन आख्या उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।
         जिलाधिकारी ने इसके बाद विकासखंड गौर के अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय कुनगाई बुजुर्ग का निरीक्षण किया। यहां पर बाउंड्रीवाल का निर्माण कार्य चल रहा है किंतु मसाले की गुणवत्ता संतोषजनक नहीं है। परिसर में स्थापित बालक, बालिका शौचालय की स्थिति काफी खराब है। 2 कक्षाओं के दरवाजे नीचे से टूटे हुए पाए गए। मल्टीपल हैंडवॉश केवल शोपीस बन कर रहा गया है। मौके पर निर्माण कार्य के दौरान ना तो ग्राम प्रधान और ना ही कोई कर्मचारी उपस्थित पाया गया। इस स्थिति के लिए बीडीओ, खंड शिक्षा अधिकारी, सहायक विकास अधिकारी पंचायत गौर तथा ग्राम पंचायत के सचिव को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए निर्देशित किया गया है कि 10 दिन के भीतर गुणवत्तापूर्ण कार्य करा कर अवगत कराएं। साथ ही यह भी स्पष्ट करें कि बैठकों में बार-बार निर्देश दिए जाने के बावजूद बाउंड्रीवाल के निर्माण कार्य में किन परिस्थितियों में लापरवाही बरती गई? समय से उत्तर न पाए जाने पर वेतन रोका जाएगा तथा एकपक्षीय कार्यवाही प्रारंभ कर दी जाएगी।
       इसके पश्चात् जिलाधिकारी ने प्राथमिक विद्यालय श्रृंगीनारी, मिश्रौलियाधीश, सरैया खास का निरीक्षण किया। निरीक्षण में उन्होंने पाया कि विद्यालय की बाउंड्रीवाल का निर्माण कार्य अभी प्रारंभ ही नहीं हुआ है। जबकि पिछले 1 महीने से अधिक समय से बाउंड्रीवाल निर्माण कराने के लगातार निर्देश दिए जा रहे हैं। तमाम निर्देशों के बावजूद कार्य में लापरवाही बरतना अत्यंत गंभीर है। इस संबंध में जिलाधिकारी ने अत्यंत नाराजगी व्यक्त करते हुए 3 दिन के भीतर निर्माण कार्य शुरू कराने का निर्देश दिया है। साथ ही खंड विकास अधिकारी तथा खंड शिक्षा अधिकारी गौर एवं परशुरामपुर को कार्य न शुरू कराने के लिए 3 दिन के भीतर अपना स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है। समय से उत्तर प्राप्त ना होने पर वेतन रोकते हुए एकपक्षीय कार्यवाही प्रारंभ कर दी जाएगी।
      जिलाधिकारी ने श्रृंगीनारी मंदिर का निरीक्षण किया। निरीक्षण में पाया गया कि मंदिर परिसर एवं उसके अगल-बगल चारों तरफ अत्यधिक मात्रा में गंदगी पड़ी हुई है जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए 2 दिन के भीतर पूरी तरह सफाई कराने एवं नियमित रूप से सफाई कराने के लिए जिला पंचायत राज अधिकारी तथा खंड विकास अधिकारी परसरामपुर को सख्त निर्देश दिया है। यदि दोबारा निरीक्षण में गंदगी पाई गई तो इसे गंभीरता से लेते हुए कड़ी कार्यवाही प्रस्तावित की जाएगी।
       जिलाधिकारी ने पर्यटन अधिकारी को निर्देशित किया है कि जनपद में संचालित निर्माण कार्यों की प्रगति से अवगत कराएं। क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी को लिखे गए पत्र में सीडीओ डॉ. राजेश कुमार प्रजापति ने कहा है कि रिपोर्ट स्थलवार एवं कार्यदाई संस्थावार अद्यतन होनी चाहिए। जिलाधिकारी द्वारा 7 सितंबर को इसकी समीक्षा की जाएगी, इसलिए बैठक में भी अनिवार्य रूप से उपस्थित रहे। रिपोर्ट के साथ फोटोग्राफ भी लगाएं।

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)