सहजनवा में फोरलेन पर निर्माण अधिकारियों ,ठेकेदार को आक्रोशित जनता ने बन्धक बनाया, पुलिस ने छुड़वाया!

 


गोरखपुर, उत्तरप्रदेश

गोरखपुर के सहजनवां कबे में हो रहे फोरलेन निर्माण के दौरान स्थानीय लोगों ने मंगलवार दोपहर एक बजे लोक निर्माण विभाग (लोनिवि) के जेई, एई और ठेकेदार समेत अन्य लोगों को बंधक बना लिया। इस दौरान लोगों ने उनके साथ गाली-गलौज भी की। स्थानीय लोगों का आरोप है कि बिना उनकी मौजूदगी के अतिक्रमण क्यों हटाया गया। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद दोपहर में दो बजे बंधक बनाए गए लोग रिहा हो पाए।


जानकारी के अनुसार, सहजनवां कसबे में थाने से लेकर रेलवे स्टेशन तक दो किलोमीटर तक फोरलेन का निर्माण किया जा रहा है। मानक के अनुसार दोनों तरफ सात-सात मीटर सड़क की पटरी रहेगी। एक-एक मीटर नाली दोनों तरफ और आधा मीटर का डिवाइडर बनाया जाएगा। इसके लिए कुल 16.5 मीटर जगह की आवश्यकता है। बाजार में नाली बनाने का काम तकरीबन पूरा हो चुका है, लेकिन 150 मीटर में काम नहीं हो पाया है। इसकी वजह है कि स्थानीय दुकानदार नाली के लिए जगह खाली नहीं कर रहे हैं।


लोगों को बताया गया कि यहां तक नाली का निर्माण किया जाएगा। फिर भी काम नहीं करने दिया जा रहा है। तीन दिन पहले नाली बनाने के लिए खुदाई की जा रही थी तो एक व्यक्ति ने काम रुकवा दिया। इसकी सूचना प्रशासन को दी गई। एसडीएम मौके पर पहुंचे। पुलिस फोर्स आई तब अतिक्रमण को हटाया गया। इसी बात पर स्थानीय लोगों में नाराजगी थी।

मंगलवार को जब दोबारा से काम कराने पहुंचे तो जेई, एई और ठेकेदार सहित अन्य काम करने वालों को बंधक बना लिया गया। इसकी सूचना जब स्थानीय प्रशासन को हुई तो पुलिस भेजकर लोगों को छुड़ाया गया। इस घटना से लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों से लेकर ठेकेदार संगठनों तक में रोष है। आदर्श पूर्वांचल ठेकेदार समिति के अध्यक्ष शरद कुमार सिंह ने कहा कि यदि इस तरह की घटनाएं होतीं रहीं तो कैसे कोई काम कराएगा? इस तरह का कार्य करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।

प्रांतीय खंड अधिशासी अभियंता  प्रवीण कुमार ने बताया कि जितनी राजनीति सहजनवां में हो रही है, जनपद में कही नहीं होती है। महानगर में असुरन मेडिकल रोड के चौड़ीकरण का कार्य हुआ लेकिन इतनी समस्या नहीं आई। हमने इस मामले में दोषियों पर कार्रवाई के लिए डीएम को पत्र लिखा है।
Comments