कोरोना से सम्बन्धित सांघातिक बच्चे भी अस्पताल में होंगे भर्ती

 


कोरोना से सम्बन्धित गंभीर बच्चे ही होगे अस्पताल में भर्ती

स्वास्थ्य मन्त्रालय ने जारी की गाइडलाइन


सतर्कता के साथ बच्चों को घर पर ही कोरोना मुक्त रख सकते हैं 

-  रेमडिसिविरआइवरमेक्टिनव इस्टीरायड केवल गंभीर बच्चों को ही दें

 

संतकबीरनगर, 19 मई 2021।

आने वाले दिनों में कोविड-19 का असर बच्चों पर होने की संभावना को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को गाइडलाइन जारी की है।  इसके मुताबिक सिर्फ कोरोना से ग्रसित गंभीर बच्चों को ही अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत होगी। बाकी का इलाज होम आइसोलेशन में रखकर किया जा सकता है।

यह जानकारी देते हुए एसीएमओ डॉ मोहन झा ने बताया कि गाइडलाइन के मुताबिक जिन बच्चों का आक्सीजन लेवल 90 से नीचे गिरता हैउन्हें कोविड अस्पताल में भर्ती किया जाना चाहिए। गाइडलाइन में बच्चों को इस्टीरायड देने की मनाही  की गई है। सिर्फ गंभीर बच्चों को जरूरत पड़ने पर यह दवा देने की अनुमति दी जाएगी। इसके अलावा कोविड-19 के इलाज में  इस्तेमाल हो रही रेमडिसिविरआइवरमेक्टिनफैवीपिराविर जैसी दवाओं को बच्चों को देने से मना किया गया है।

गाइडलाइन में आगे कहा गया है कि जिन बच्चों का आक्सीजन लेवल 90 से कम आता है उन्हें गंभीर निमोनियाएक्यूट रिसपाइटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोमसैप्टिक शाकमल्टी आर्गन डिस्फक्शन सिंड्रोम जैसी बीमारियां हो सकती हैं। ऐसे मरीजों को फौरन किसी कोविड अस्पताल में भर्ती कराया जाए और जरूरत पड़े तो आईसीयू में शिफ्ट किया जाए। इन बच्चों को इस्टीरायड दिए जा सकते हैं।  

 

बच्चों के स्टूल टेस्ट से भी कोरोना की पहचान

गाइडलाइन के अनुसार कुछ बच्चे बुखार के साथ पेट दर्दउल्टी व दस्त की समस्या के आ सकते हैंउनका भी कोरोना मरीज के तौर पर इलाज किया जाना चाहिए। उनका स्टूल टेस्ट कराने पर पुष्ट हो जाएगा कि उन्हें कोरोना है या नहीं।  दिशानिर्देश में यह भी कहा गया है कुछ बच्चों में मल्टी सिस्टम इन्फ्लैमटोरी सिन्ड्रोम भी हो सकता है जिसके लिए सतर्क रहने की जरूरत है

गाइनलाइन में साफ कहा गया है कि सिर्फ कोरोना ग्रसित गंभीर बच्चों को भर्ती कराने की जरूरत होगी। बाकी का इलाज में घर में रहकर ही किया जा सकता है। बस उनकी नियमित मानिटरिंग होती रही। ज्यादातर बच्चे लक्षणविहीन हो सकते हैं इसलिए उनका इलाज सावधानी से करने की जरूरत है। 

 

क्या हो सकते है लक्षण 

ज्यादातर बच्चे लक्षणविहीन या हल्के-फुल्के लक्षण वाले होंगे । उनमें बुखारखांसीसांस लेने में तकलीफथकावटसूंधने व टेस्ट की क्षमता में कमी आनानाक बहनामांसपेशियों में तकलीफगले में खराश जैसे लक्षण होंगे । कुछ बच्चों में दस्त आनाउल्टी होनापेट दर्द होना आदि हो सकता है । कुछ में मल्टी सिस्टम इंफलामेट्री सिंड्रोम होगा। ऐसे बच्चों को बुखार 38 सेंटीग्रेड से अधिक होगाउनके लक्षण SARS CoV-2 से संबंधित हो सकते हैं। इन बच्चों में खांसीनाक बहना व गले में खराश जैसे लक्षण भी हो सकते हैं 

 

Comments
Popular posts
ॐ नमो ब्रह्मनदेवाय गो ब्राह्मण हिताय च!
30 लाख की फिरौती के फ़ेर में छात्रा की हत्या
सरकार को कानून व्यवस्था का दंभ, अपराधियों ने किया नाक में दम! लखनऊ में 7 साल की मासूम से अगवा कर दरिंदगी; 1 आरोपी गिरफ्तार, दूसरा फरार! हाईकोर्ट के पास सरेराह चौराहे पर महिला वकील की मोबाइल छीन लुटेरा फरार छात्रों के दो गुटों में संघर्ष, एक की मौत!
Image
योगी के यूपी में दो साल में जबरन धर्मांतरण के 291 मामले दर्ज, 507 गिरफ्तार
Image
साई बाबा के पिता पिंडारी मुसलमान थे,इनका काम भारत मे लूटपाट करना था
Image