कोविड 19 निगरानी समिति के पास 10 मेडीसिन किट अवश्य रहें, मंडलायुक्त गोरखपर

कौटिल्य वार्ता
By -
0

 

गोरखपुर 
मण्डलायुक्त जयन्त नार्लिकर ने उच्चीकृत स्वास्थ्य केन्द्र, पं0 दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सहजनवां एंव सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पाली(ठर्रापार) में कोविड वैक्सीनेशन के साथ-साथ ग्राम चडरांव में निगरानी समिति के कार्यों तथा ग्राम लुचई एवं पिपरा में होम आइसोलेशन में रह रहे कोविड संक्रमितों से मिलकर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी प्राप्त की। टीकाकरण केन्द्र पर गोरखपुर जर्नलिस्ट प्रेस क्लब के अध्यक्ष मार्कण्डेय मणि एवं गोरखपुर जर्नलिस्ट एसोशिएसन के अध्यक्ष रत्नाकर सिंह उपस्थित रहे। 
मण्डलायुक्त ने सर्वप्रथम गोरखपुर विश्वविद्यालय के उच्चीकृत स्वास्थ्य केन्द्र का निरीक्षण कर वहाॅ पर पत्रकारों को किये जा रहे कोविड वैक्सीनेशन के बारे में जानकारी प्राप्त की और निर्देश दिया कि 18 वर्ष से अधिक आयु के पत्रकारों के लिए भी कैम्प का आयोजन कर वैक्सीन लगाई जाये। सभी मीडियाकर्मियों को इस केन्द्र पर वैक्सीन लगाने की सुविधा प्रदत्त की गयी है, अतः इसका अधिक से अधिक लाभ उन्हे मिलना चाहिये। इसके उपरान्त उन्होंने सहजनवा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने आर॰आर॰टी॰ टीम से वार्ता किया और जिला सर्विलान्स अधिकारी डाॅ0 एन0के0 पाण्डेय एंव प्रभारी चिकित्साधिकारी सी0एच0सी0 सहजनवा डाॅ सतीश सिंह को निर्देश दिया कि आर॰आर॰टी॰ टीम की संख्या में वृद्धि की जाये और इसके लिए आवश्यक संसाधन यथा वाहन आदि मुख्य विकास अधिकारी उपलब्ध करायें। उन्होंने श्री इन्द्रजीत सिंह, मुख्य विकास अधिकारी, गोरखपुर को निर्देश दिया कि प्रत्येक निगरानी समिति में ग्राम पंचायत सचिव को अनिवार्य रूप से शामिल किया जाये तथा मरीजों को दिये जाने वाले दवाओं में आयुष की भी दवा शामिल की जाये। 
दवाओं के सेवन की विधि एक पर्ची पर लिख कर मेडिसिन किट में अवश्य रखी जाये। इसके उपरान्त उन्होंने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पाली(ठर्रापार) का निरीक्षण कर कोविड टीकाकरण, कोविड जाॅच आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की। ग्राम चडराॅव में निगरानी समिति के सदस्यों को प्रोत्साहित करते हुये उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी तथा मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि प्रत्येक निगरानी समिति को पल्स आॅक्सीमीटर, इन्फ्रारेड थर्मामीटर, सैनिटाइजर एवं मास्क उपलब्ध कराना सुनिश्चित करायें। साथ ही प्रत्येक निगरानी समिति के पास कम से कम 10 मेडिसिन किट अवश्य दिये जाये, जिससे कि वे आवश्यकतानुसार संभावित संक्रमितों अथवा लक्षणयुक्त व्यक्त्यिों को औषधि प्रदान कर सकें। इसके उपरान्त उन्होंने सहजनवा के लुचई ग्राम में होम आइसोलेशन में रह रहे शरद अग्रवाल एवं पिपरा में मनीष यादव एवं छम्पा से मुलाकात कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त की। निरीक्षण के दौरान गोरखपुर जनपद के मुख्य विकास अधिकारी इन्द्रजीत सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डा॰ सुधाकर पाण्डेय, डी0आई0ओ0/अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा॰ एन॰के॰ पाण्डेय, उप जिलाधिकारी सहजनवां श्री सुरेश राय उपस्थित रहे। 

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)