कासगंज में पुलिस पर हमला करने वाला एक आरोपी मारा गया, दूसरा फरार! मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में पुलिस टीम पर हमला कर सिपाही देवेंद्र जसावत की हत्या करने वाले शराब माफिया को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया है। आरोपी का नाम ऐलकार है, जबकि दूसरा आरोपी मोती अभी भी फरार है।जानकारी के अनुसार थाना सिढ़पुरा क्षेत्र में बुधवार तड़के काली नदी की कटरी किनारे मुठभेड़ हुई। आरोपी ऐलकार गांव धीमर का रहने वाला था। ऐलकार भी पुराना हिस्ट्रीशीटर था। उस पर भी कई मामले दर्ज हैं। ऐसी परिस्थितियों में अपराधियों के प्रति यूपी के बदले तेवर को देखते हुये जानकर मानते हैं कि मोती धीमर को भी पुलिस जल्द ही ठोंक सकती है। थाना सिढ़पुरा क्षेत्र के गांव नगला धीमर और नगला भिकारी में अवैध शराब की सूचना पर दबिश देने पहुंचे दरोगा अशोक कुमार सिंह और सिपाही देवेंद्र जसावत पर शराब माफिया ने मंगलवार शाम को हमला कर दिया था। उनकी  पि बेरहमी से  घेर कर पिटाई की गई थी। हमलावरों ने पहले उनकी वर्दी उतरवा दी उसके बाद लाठी-डंडों व अन्य हथियारों से उन्हें बेरहमी से पीटा। लहूलुहान दरोगा और सिपाही को अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया, जहां सिपाही की मौत हो गई। दारोगा की हालत गंभीर बनी हुई है। सिपाही की मौत और दरोगा के अधमरा होने की सूचना से पुलिस विभाग आग-बबूला हो गया। बताते हैं कि मुख्यमंत्री ने एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार से पूछ लिया कि यह क्या हो रहा है? फिर तो रात में ही एडीजी अजय आनंद के नेतृत्व में शराब माफिया पर कार्रवाई का अभियान शुरु कर दिया गया। मंगलवार की रात ही में आरोपियों पर एनएसए (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) लगाने के आदेश दिए हैं। साथ ही घायल दारोगा के इलाज के दिए निर्देश दिए हैं। सीएम योगी ने सिपाही के परिजनों को 50 लाख रुपये और आश्रित को सरकारी नौकरी देने के एलान किया है। 

 कासगंज में पुलिस पर हमला करने वाला एक आरोपी मारा गया, दूसरा फरार!


मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ


 उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में पुलिस टीम पर हमला कर सिपाही देवेंद्र जसावत की हत्या करने वाले शराब माफिया को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया है। आरोपी का नाम ऐलकार है, जबकि दूसरा आरोपी मोती अभी भी फरार है।जानकारी के अनुसार थाना सिढ़पुरा क्षेत्र में बुधवार तड़के काली नदी की कटरी किनारे मुठभेड़ हुई। आरोपी ऐलकार गांव धीमर का रहने वाला था। ऐलकार भी पुराना हिस्ट्रीशीटर था। उस पर भी कई मामले दर्ज हैं। ऐसी परिस्थितियों में अपराधियों के प्रति यूपी के बदले तेवर को देखते हुये जानकर मानते हैं कि मोती धीमर को भी पुलिस जल्द ही ठोंक सकती है।



थाना सिढ़पुरा क्षेत्र के गांव नगला धीमर और नगला भिकारी में अवैध शराब की सूचना पर दबिश देने पहुंचे दरोगा अशोक कुमार सिंह और सिपाही देवेंद्र जसावत पर शराब माफिया ने मंगलवार शाम को हमला कर दिया था। उनकी  पि बेरहमी से 


घेर कर पिटाई की गई थी। हमलावरों ने पहले उनकी वर्दी उतरवा दी उसके बाद लाठी-डंडों व अन्य हथियारों से उन्हें बेरहमी से पीटा। लहूलुहान दरोगा और सिपाही को अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया, जहां सिपाही की मौत हो गई। दारोगा की हालत गंभीर बनी हुई है।



सिपाही की मौत और दरोगा के अधमरा होने की सूचना से पुलिस विभाग आग-बबूला हो गया। बताते हैं कि मुख्यमंत्री ने एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार से पूछ लिया कि यह क्या हो रहा है? फिर तो रात में ही एडीजी अजय आनंद के नेतृत्व में शराब माफिया पर कार्रवाई का अभियान शुरु कर दिया गया। मंगलवार की रात ही में आरोपियों पर एनएसए (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) लगाने के आदेश दिए हैं। साथ ही घायल दारोगा के इलाज के दिए निर्देश दिए हैं। सीएम योगी ने सिपाही के परिजनों को 50 लाख रुपये और आश्रित को सरकारी नौकरी देने के एलान किया है। 

Comments
Popular posts
सरकार को कानून व्यवस्था का दंभ, अपराधियों ने किया नाक में दम! लखनऊ में 7 साल की मासूम से अगवा कर दरिंदगी; 1 आरोपी गिरफ्तार, दूसरा फरार! हाईकोर्ट के पास सरेराह चौराहे पर महिला वकील की मोबाइल छीन लुटेरा फरार छात्रों के दो गुटों में संघर्ष, एक की मौत!
Image
ॐ नमो ब्रह्मनदेवाय गो ब्राह्मण हिताय च!
साई बाबा के पिता पिंडारी मुसलमान थे,इनका काम भारत मे लूटपाट करना था
Image
कलक्टर बस्ती का आग्रह सब योगदान करें टीका अभियान में!
Image
यूपी की बाराबंकी जेल में 26 कैदी एचआईवी पॉजीटिव मिलने से हड़कंप
Image