श्रीराम जी ने समाज को 14 वर्ष दिया था,हमे उनके लिए केवल 14 दिन देना है

कौटिल्य वार्ता
By -
0


- वाल्मीकि महाराज द्वारा रचित रामायण सहित देश-दुनिया की सभी भाषायी रामायणों का बनेगा संग्रहालय

अलीगढ़।

श्रीराम जन्मभूमि में भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए लोगों की जन सहभागिता बढ़ाने हेतु निधि संग्रह अभियान 15 जनवरी से शुरू रहा है। इसी क्रम में श्री वाष्र्णेय महाविद्यालय के सभागार में शनिवार को श्रीराम जन्मभूमि में निधि संग्रह अभियान द्वारा ‘श्रीराम जन्मभूमि आस्था एवं इतिहास’ विषय को लेकर महानगर के प्रबुद्धजनों के साथ भव्य सम्मेलन आयोजित किया गया, जिसमें मुख्य वक्ता के रूप में दिनेश सदस्य केंद्रीय प्रबंध समिति पूर्व अंतर्राष्ट्रीय महामंत्री संगठन रहे। कार्यक्रम का शुभारम्भ भारत माता के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन दिनेश सदस्य केंद्रीय प्रबंध समिति, राजकुमार विभाग संघ चालक, हरिप्रकाश गुप्ता (हिक्स थर्मामीटर) ने संयुक्त रूप से किया। तदोपरांत सर्वप्रथम शहीद भगवान सिंह नगला बलराम के परिवार को सम्मानित किया गया, जो कि श्रीराम मंदिर आंदोलन में 30 अक्टूबर 1990 के दौरान मुलायम सिंह सरकार द्वारा हुए गोलीकांड में शहीद हुए थे।


सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए दिनेश ने बताया कि विश्व में भगवान श्रीराम के मंदिर तो लाखों हैं, परंतु यह मंदिर जन्मस्थली पर है एवं राष्ट्र निर्माण का प्रतीक है, प्रत्येक के मन के राम का मंदिर है और समाज द्वारा जागरुकता के साथ बनाया गया होगा जिससे भविष्य में कोई हाथ या आंख उठाकर देखने की हिम्मत न कर सके, इस अभियान का नाम निधि समर्पण दिया गया है। समाज स्वयं सहजता से अपने को सौभाग्यशाली मानकर राशि समर्पित कर रहा है, जैसे रामसेतु निर्माण के समय गिलहरी की भूमिका क्षमता अनुसार जितनी भी थी निरंतर अपना समर्पण करती रही। 

हाल ही में विदेश में रहने वाले हिंदू समाज के लोग सम्पर्क कर रहे हैं, 5-10 हजार करोड़ जो भी लगेगा, हम सब एकत्रित कर भेज देंगे, गांव-गांव जाने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी। दिनेश ने बताया कि यह केवल धन संग्रह का विषय नहीं हैं अपितु सारे हिंदू समाज की भावनाओं एवं राष्ट्र के स्वाभिमान का विषय है। जयपुर के डायमण्ड व्यापारी ने भी मंदिर गर्भ ग्रह की पूरी हीरे जवाहरात से सजावट की जिम्मेदारी लेने की बात कही तो केंद्रीय टीम ने उनका सहयोग भविष्य में बतायेंगे कहा है। श्रीराम जन्मभूमि निधि संग्रह समर्पण अभियान की योजनानुसार घर-घर झुग्गी-झोंपड़ी, भवनों तक जाना है, इस अभियान में जन-जन का सहयोग लिया जायेगा। इस मंदिर के निधि संग्रह अभियान में बगैर भेदभाव, जातिवाद, राजनीतिक पार्टी सबका सहयोग लिया जायेगा। अभियान को सफल बनाने के लिए उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम ने 14 वर्ष तक समाज जागरुकता, समरसता के लिए दिये थे। 

हम सभी को विस्तारक, अल्पकालीन विस्तारक बनकर 14 दिन का समय देना है। इस अभियान में 4 लाख गांव, 11 करोड़ परिवार तक जाने का लक्ष्य है, जो कि निश्चित ही कार्यकर्ताओं द्वारा अधिकता के साथ पूर्ण किया जायेगा। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र मंदिर प्रांगण की महायोजना 64 एकड़ की जानकारी देते हुए बताया कि अतिथि भवन, अनुसंधान केंद्र, प्रशासनिक भवन, आवासीय परिसर, प्रदर्शनी, तीर्थ यात्री सुविधायें, संग्रहालय, ग्रंथालय, यज्ञशाला, सत्संग भवन, अभिलेखागार आदि रहेंगी। जिसके लिए अयोध्या क्षेत्र के सभी धर्मांे के लोगों का पूर्ण मनोयोग से सहयोग मिल रहा है और यह क्षेत्र हो सकता है 100 एकड़ तक पहुंचेगा।

Post a Comment

0Comments

Please Select Embedded Mode To show the Comment System.*