किसी के बाप की हैसियत नहीं कि फ़िल्म सिटी लखनऊ ले जाय, मुख्यमंत्री महाराष्ट्र

 

मुम्बई/लखनऊ
उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी  के निर्माण की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कोशिशों के बीच महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ शिवसेना लगातार हमलावर है। अब वेब सीरिज मिर्जापुर का उदाहरण सामने रखते हुए शिवसेना योगी सरकार पर निशाना साधा है। शिवसेना ने कहा कि वेब सीरिज में दिखाए गए प्रसंग ही यूपी की वास्तविकता है और अब मुंबई में 'मिर्जापुर-3' बनाने की तैयारी हो रही है। साथ भी यह भी कहा है कि मुंबई से फिल्म सिटी को ले जाने किसी के बाप के लिए भी संभव नहीं है।

शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में छपे संपादकीय में फिल्म सिटी को लेकर यूपी की बीजेपी सरकार पर जमकर निशाना साधा गया। संपादकीय में लिखा, 'यूपी की आपराधिक सच्चाई, कानून व्यवस्था का सनसनीखेज फिल्मांकन मिर्जापुर-1 और 2 वेब सीरीज में है। विपक्षी दल यूपी की अवस्था मिर्जापुर जैसी ही होने का आरोप लगाते हैं। इस 'सच्चाई' को बदलने की जिम्मेदारी योगी सरकार की है। सिर्फ दीवारें खड़ी कर देने से स्थिति नहीं बदलेगी


योगी सरकार पर हमलावर अंदाज अख्तियार करते हुए सामना में लिखा, 'मुंबई से फिल्म सिटी, उद्योग उठाकर ले जाना किसी बच्चे के हाथ से चॉकलेट छीनकर ले जाने जितना आसान नहीं है। यह किसी के बाप के लिए भी संभव नहीं है। महाराष्ट्र के बीजेपी नेताओं का इसपर क्या मत है? क्या मुंबई में आए योगी को भी उनका समर्थन है? यह बात स्पष्ट करनी चाहिए।'


शिवसेना ने कहा, 'लॉकडाउन के दौर में जो लोग मुंबई की आलोचना कर रहे थे, वही अब यहां आ रहे हैं। मुंबई से नोंचकर ले जाकर योगी महाराज लखनऊ और नोएडा में सोने की धूल कैसे उड़ाएंगे? लाखों उत्तर भारतीय घर परिवार छोड़कर दो रोटी के लिए मुंबई में आते हैं। बेरोजगारों को रोजगार मिले बगैर योगी के संकल्पना वाली मायानगरी से सोने की धूल नहीं निकलेगी।'

उत्तर प्रदेश में रोजगार नहीं है और आर्थिक स्तर पर दिवालिया हो गया है। योगी जी का कहना है कि हम कुछ छीनकर नहीं ले जा रहे हैं बल्कि नई फिल्म सिटी बसाने जा रहे हैं। अब कौन बेहतर सुरक्षा और सुविधा देगा, ऐसी स्पर्धा है। यह अच्छा विचार है लेकिन फिल्मसिटी मुंबई में ही क्यों समृद्ध हुई, बढ़ी और निखरी, इसका भी विचार कर लेना चाहिए।

Comments