"भाजपा सांसद आवास घेराव में पूर्व युवा कांग्रेस जिलाध्यक्ष संजय तिवारी घर पर किए गए नजरबंद

 


"

मिल्कीपुर, अयोध्या।
कांग्रेस नेता ने कहा किसान आंदोलन कर रहे किसानों की मांगों के समर्थन में तीन काले कानून को हटाने के लिए आंदोलनरत किसान भाइयों के हक की आवाज उठाने हेतु अयोध्या सांसद आवास पर ताली, थाली बजा कर कुंभकरण की नींद सो रही सरकार को जगाने हेतु प्रदर्शन आयोजित था। सरकार के इशारे पर किसानों की आवाज को दबाने के लिए युवा कांग्रेस जिलाध्यक्ष संजय तिवारी  को शिवनाथपुर कुमारगंज स्थित उनके आवास पर ही नजरबंद कर दिया गया। इसी क्रम में अयोध्या के तमाम नेताओं को पुलिस प्रशासन द्वारा घर पर ही नजरबंद कर दिया गया है। संजय तिवारी ने कहा क्या किसानों के हक में लोकतंत्र में शांतिपूर्वक आवाज उठाना कोई जुर्म है। आज मैं अपने आवास से निकल रहा था। पुलिस प्रशासन के लोगों ने जबरदस्ती हम लोगों को रोक लिया। यह घोर निंदनीय है। लोकतंत्र में अपनी बात कहने का हर व्यक्ति को आजादी है। 
लेकिन भारतीय जनता पार्टी की सरकार उस आजादी पर कुठाराघात कर रही है। जिसे कांग्रेस पार्टी का कार्यकर्ता कतई बर्दाश्त नहीं करेगाःः जिस तरह से पूरे हिंदुस्तान के अंदर किसान चाहे जिस वर्ग का हो पूरी तरह से आंदोलित है और इस कड़कड़ाती ठंड में सड़कों पर बैठकर  रात दिन आंदोलन कर रहा है। लेकिन केंद्र की भारतीय जनता पार्टी की सरकार जो फासिस्ट वादी है उसके आंख और कान नहीं खुल रहे हैं। जिन किसानों ने भारतीय जनता पार्टी की सरकार को बनवाया था। वही किसान इस सरकार का अंतिम संस्कार करने के लिए कटिबद्ध है। हिंदुस्तान के अंदर 75 फीसदी जनमानस खेती किसानी पर निर्भर है और उसके मुंह का निवाला भी भारतीय जनता पार्टी की सरकार छीनने पर उतावली है। 

लगभग 35 किसानों की ठंड से मृत्यु हो चुकी है। इसका भी हिसाब केंद्र सरकार को देना ही होगा। कांग्रेस पार्टी जब तक किसान विरोधी काला कानून केंद्र सरकार वापस नहीं लेती तब तक हर मोड़ पर किसान साथियों की मदद कांग्रेस पार्टी करने के लिए कटिबद्ध है। नजर बंद होने वालों में वरिष्ठ कांग्रेस नेता भगवान बहादुर शुक्ल ,न्याय पंचायत अध्यक्ष बवांं महेश सिंह, अरविंद यादव, प्रभाकर ,बृजनाथ अमरीश पांडे ,महिपाल सिंह सहित अन्य साथी मौजूद रहे।
Comments