" ठण्डक ने लगाया किसान किसान मेले की सफलता पर ग्रहण मेले से किसानों की भीड़ नदारद, प्रदर्शनी स्टाल भी गायब"

 

मिल्कीपुर,अयोध्या,भारत,21 दिसम्बर

   आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कुमारगंज द्वारा आयोजित तीन दिवसीय किसान मेले पर ठण्ड का असर दिखाई दिया। हालांकि! मेले में कृषि वैज्ञानिकों की तरफ से कई सत्रों में व्याख्यान चलता रहा। मेले के दूसरे दिन ही मेले में लगाए गए दर्जनों स्टॉल खाली हो गए। किसान सम्मेलन में किसानों की संख्या तो न के बराबर रही। खाली पड़ी कुर्सियों से कृषि वैज्ञानिक संवाद करते नजर आए। 
    आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कुमारगंज द्वारा आयोजित किसान मेले का उद्घाटन सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा रविवार को किया गया था। यह आयोजन डीएबी कालेज प्रागंण में तीन दिवसीय किसान मेले के रूप में किया गया है। 
लेकिन इस कृषि मेले के दूसरे दिन ही डीएवी कालेज का परिसर पूरी तरह से खाली नजर आया। कृषि मेले में कृषि वैज्ञानिकों का सत्र जरूर चला। लेकिन वे मात्र कुछ किसानों के साथ खाली कुर्सियों से ही संवाद करते दिखे। सोमवार को मेला क्षेत्र वीरान लगने लगा। किसान मेले में लगाए गई प्रदर्शनी के दर्जनों स्टाल पूरी तरह से सूने हो गए।


 लोगों ने बताया कि किसान मेले में वर्तमान में जो स्टाल लगे हैं। वह कृषि विश्वविद्यालय केवीके के हैं। बाकी विभागों के स्टाल मुख्यमंत्री के जाते ही उठा लिए गए।  मजे की बात तो यह रही कि मेले के दूसरे दिन सोमवार को कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डा. विजेंद्र सिंह अपना व्याख्यान दे रहे थे और सामने पंडाल में कुर्सियां खाली पड़ी थी। पंडाल में दर्जन भर किसान भी मौजूद नहीं थे। 
इस बारे में कृषि विश्वविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ. अखिलेश सिंह ने कहा कि यह किसान मेला कृषि विभाग और विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वाधान में था। मुख्यमंत्री के जाते ही कृषि विभाग के अधिकारी और कृषि विभाग द्वारा प्रदर्शनी में लगाए गए पंडाल नदारद हो गए। दूसरी तरफ भीषण ठण्ड की वजह से किसानों की संख्या कम है। अब विश्वविद्यालय अपने तरीके से किसान मेले का संचालन कर रहा है।
Comments