अवैध अस्पतालों में जान ले रहे झोला छाप डॉक्टर!

 




जौनपुर,उत्तरप्रदेश12 दिसम्बर
 अवैध अस्पतालों की संख्या बढ़ती जा रही है।  उन अस्पतालों में झोला छाप डाक्टर उपचार कर रहे हैं। वे किसी भी रोग को ठीक करने की गारंटी लेने से भी नहीं हिचकते। जिले के हर क्षेत्र  व बाजारों में थोक की संख्या में झोला छाप चिकित्सक खुलेआम प्रैक्टिस करते नजर आ रहे हैं। वहीं कुछ झोला छाप चिकित्सक नामी-गिरामी चिकित्सकों का नेम प्लेट लगाकर खुद अस्पताल चला रहे हैं।  इन अस्पतालों में मुख्य रूप से भ्रूण हत्या का धंधा चलता है। बिना आक्सीजन और बेहोश किए इन अस्पतालों में कई तरह के आपरेशन कर दिए जाते हैं। आलम  यह है कि बगैर किसी वैध डिग्री-डिप्लोमा के ये झोला छाप चिकित्सक बड़े-बड़े बोर्ड लगाकर गारंटी के साथ सभी रोगों को ठीक करने की बात करते हैं। 
इनके झांसे में आकर सीधे-सादे ग्रामीण अपना पैसा व स्वास्थ्य दोनों गंवा देते हैं। कुछ को तो अपनी जान भी गंवानी पड़ती है। दूसरी तरफ   सभी गांवों में तीन से चार की संख्या में फर्जी डाक्टर अपना क्लीनिक चला रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग को इससे कोई मतलब नहीं है। जानकार लोगों का कहना है कि नीचे से ऊपर तक सब कुछ मैनेज है। फलस्वरूप फर्जी डाक्टर लोगों के जान की कीमत लाखों रुपये के वारे न्यारे प्रति वर्ष कर रहे हैं। जागरूक लोगों ने सीएमओ बलिया से तत्काल झोला छाप चिकित्सकों व फर्जी अस्पतालों के संचालन पर रोक लगाने की मांग की है। 
सीएमओ कहते है कि झोलाछाप डाक्टरों व अवैध प्राइवेट अस्पतालों की जांच की जाएगी।   जिनका पंजीयन नहीं होगा, उन पर कार्रवाई भी की जाएगी। इसकी जांच के लिए बहुत जल्द अभियान चलाया जाएगा।
Comments
Popular posts
सड़क किनारे मिली वृद्धा की लाश
Image
बेसिक शिक्षा अधिकारी सही पर उनका तरीका गलत,जाँच में आंच की संभावना कम
कृष्ण देव मिश्र बस्ती प्रेस क्लब के चुनाव अधिकारी होंगे
*पं. गणेश प्रसाद मिश्र सेवा न्यास द्वारा सतना में पर्यावरण व स्वास्थ्य शिविर के कार्य शहर की ज़रूरत : योगेश ताम्रकार * *848 मरीज़ों का 16 जिलों से आये आनलाइन पंजीयन उल्लेखनीय सेवा कार्य: उत्तम बनर्जी * * तिरंगा ध्वज व वृक्षारोपण राष्ट्रीय अभियान में सभी संगठनों से सहयोग की अपील: कलेक्टर अनुराग वर्मा * *मेदांता द्वारा आयोजित दो-दिवसीय निःशुल्क चिकित्सा शिविर उद्घाटित: शंकरलाल तिवारी * *मेदांता हॉस्पिटल दिल्ली के डॉक्टरों की टीम ने पहले दिन 534 मरीजों का किया परीक्षण एवं 1693 जाँचें हुईं।*
Image
आई जी आर यस शिकायतों के निस्तारण में स्वास्थ्य,वेसिक शिक्षा, पंचायती राज विभाग कलक्टर की क्लास में पूरे फेल
Image