सामूहिक दायित्वांे से जुड़े मानवाधिकारों के कार्यकर्ता

 

रक्षा-शेषमणि

बस्ती। एक दूसरे के अधिकारों,सुविधाओं के बारे में सोचना प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी होती है, हमारी स्वतंत्रता वही तक है जहां तक दूसरे को असुविधा न हो, उसकी स्वतंत्रता में कोई खलल पैदा न हो,यह विचार विश्व मानवाधिकार दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय मानवाधिकार एसोसिएशन के डुहवा मिश्र,हर्रैया स्थित कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए क्षेत्राधिकारी हर्रैया शेषमणि उपाध्याय ने व्यक्त किया।
आधुनिक भारत और  मानवाधिकार विषयक गोष्ठी में वक्ताओं ने अपने विचार रखे। सामाजिक सरोकारों से जुड़े मुद्दों पर काम करने वालेलोगों,पदाधिकारियों,सदस्यों को इस अवसर पर क्षेत्राधिकारी शेषमणि उपाध्याय के हाथों  सम्मान पत्र भी प्राप्त हुआ।

 सम्मान पत्र पाने वालों में चेयर मैन डॉ. कुलदीप मिश्र,प्रदेश प्रभारी,प्रशिक्षण आयुक्त डॉ.कुलदीप सिंह,प्रदेश अध्यक्ष महिला प्रकोष्ठ सोनी सिंह,डॉ. कुलदीप मिश्र वरिष्ठ एडवोकेट उच्च न्यायालय इलाहाबाद,प्रदेश सलाहकार,रजनीश मिश्र सहायक संगठन सचिव,राहुल दुबे जिला सचिव,डॉ.आनन्द राय तहसील महा सचिव,ओम प्रकाश पाण्डेय,दुःख राम तहसील अध्यक्ष आदि शामिल रहे।
अरुण कुमार,शिवम पाण्डेय,टनाटन मिश्रा,रवि कुमार कौशल,डॉ. बीएन मिश्रा सुमित सोनी,आनन्द राय आदि की सहभागिता रही। चेयरमैन डॉ. कुलदीप मिश्रा, प्रदेश प्रभारी उत्तर प्रदेश डॉ. कुलदीप सिंह ने सभी आगन्तुक जन का आभार व्यक्त किया और सबको अपने कर्तव्य और दायित्व के प्रति सजग रहने की शपथ दिलाई। संचालन रजनीश मिश्रा ने किया।

Comments