गोल्डन कार्ड बनाने हेतु आयुषमान योजना में22 से अभियान चलेगा.. जिलाधिकारी

 


बस्ती 21 दिसंबर 
 आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अन्र्तगत गोल्ड़न कार्ड बनाने के लिए 22 दिसम्बर से एक माह का अभियान संचालित किया जायेंगा। उक्त जानकारी जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने दी है। विकास भवन सभागार में आयोजित तैयारी बैठक में उन्होने कहा कि प्रथम चरण में गोल्ड़न कार्ड से वंचित 50 परिवार या उससे अधिक परिवार वाले गाॅव लिये गये है। इस प्रकार के जिले में 44161 परिवार है। ऐसे गाॅव में सहज सेवा केन्द्र के संचालक मशीन के साथ जायेंगे। उन्होने बताया कि इसके लिए लाभार्थी को रू0 30 शुल्क का देना होगा। कार्ड बनाने के लिए प्रेरित करने वाली आशा को प्रति व्यक्ति 05 रूपये तथा एक से अधिक पर 10 रूपये प्रोत्साहन राशि दी जायेंगी।


जिलाधिकारी ने सभी आशाओं की टेªनिंग कराने का निर्देश दिया है। उन्होने कहा कि सभी प्रभारी चिकित्साधिकारी नियमित मानीटरिंग करंे, कार्ड बनने की प्रतिदिन रिपोर्ट भेजें तथा जिस गाॅव में आशा, ग्राम स्तरीय कर्मचारी, सुविधा केन्द्र शिथिल है, उनको सुपरवाइजर भेजकर सुधार करें ताकि लक्ष्य पूरा दिया जा सके।
उन्होने समीक्षा में पाया कि जिले में 16 सरकारी तथा 17 निजी अस्पताल आयुष्मान योजना में इलाज करने के लिए पंजीकृत है। जिलाधिकारी ने अन्य सरकारी एंव निजी अस्पतालों का पंजीकरण कराने का निर्देश दिया है। उन्होने कहा कि सभी एम.ओ.आई.सी. अपने क्षेत्र के अच्छी सुविधाओंयुक्त निजी अस्पतालों की सूची नोड़ल अधिकारी को उपलब्ध करायें ताकि इस योजना में इनका पंजीकरण कराया जा सकें।
एक अन्य बैठक में उन्होेने आई.एम.ए. तथा निजी अस्पताल संचालको से अपील किया कि वे आयुष्मान भारत योजना में पंजीकरण करा लें ताकि लोगों को इलाज की बेहतर सुविधा मिल सकें। उन्होने सी.एम.ओ तथा नोड़ल अधिकारी को निर्देश दिया कि निजी अस्पताल के संचालको के साथ पाक्षिक बैठक करके योजना की चर्चा करें तथा इस योजना का लोंगो को लाभ दिलाये। उन्होने कहा कि जिले में न्यूरो सर्जन, नेफ्रो, ह्रदय रोग संबंधी इलाज की सुविधा नही है। इसके लिये गोरखपुर, अयोध्या, लखनऊ, वाराणसी से योजना में पंजीकृत अस्पताल से सम्पर्क बनाकर जिले के मरीजो का इलाज कराने की व्यवस्था करायें।
जिलाधिकारी ने सभी निजी अस्पतालों के संचालको से अपील किया है कि वे अपने फ्रन्ट लाइन वर्कर की सूची उपलब्ध करा दें ताकि उन्हे प्रथम चरण में ही कोविड-19 का टीकाकरण कराया जा सके। यह अनिवार्य है इसलिए दो दिन में सूची उपलब्ध करा दें।


सीडीओ सरनीत कौर ब्रोका ने बताया कि पिछले माह में अभियान चलाकर गोल्ड़न कार्ड बनाया गया था। उन्होने बताया कि पूरे जिले में 87940 परिवार है, जिसमें एक भी गोल्ड़न कार्ड नही बना है। परिवार के प्रत्येक व्यक्ति का अलग-अलग कार्ड बनेगा।
सीएमओ डाॅ0 एके गुप्ता ने बताया कि नये अस्पताल के पंजीकरण के लिए उसके पास कम से कम 10 बेड़ होना चाहिए, जनरल वार्ड हो, स्टाफ का विस्तृत विवरण देना होगा, उन्हें एम.ओ.यू. साइन करना होगा। बैठक में डाॅ0 सीएल कन्नौजिया, डाॅ0 फखरेयार हुसेन, सीओ गिरीश कुमार सिंह, सीएमएस डाॅ0 रोचस्पति पाण्डेय, बेसिक शिक्षा अधिकारी जगदीश शुक्ला, निजी अस्पतालों के संचालक प्रभारी चिकित्साधिकारीगण उपस्थित रहके.
Comments