मंत्री वंदन योजना मे पात्रों को सप्ताह के अंदर लाभ दिलाने का निर्देेश::कलक्टर बस्ती

 


बस्ती 23 नवम्बर 2020 ,उत्तरप्रदेश
प्रधानमंत्री मातृ बन्दना योजना का लक्ष्य पूरा करने तथा पात्र व्यक्तियों को शतप्रतिशत लाभ दिलाने के लिए जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने एक सप्ताह के भीतर कार्यवाही करने के लिए सीएमओ को निर्देशित किया है। सीएमओ को भेजे गये पत्र में उन्होने कहा है कि अपने अधीन कार्यरत प्रभारी चिकित्साधिकारी ब्लाक कार्यक्रम प्रबन्धक, ब्लाक कम्यूनिटी, प्रासेस मैनेजर एवं एमटीएस के माध्यम से लक्ष्य पूरा करें।
उल्लेखनीय है कि योजना में 51335 लक्ष्य के सापेक्ष 42383 लाभार्थियों का पंजीकरण किया गया है, जो 82.56 प्रतिशत है। इसके सापेक्ष नगरीय क्षेत्र में 53.49 प्रतिशत, साॅऊघाट में 66.76 प्रतिशत, गौर में 68.30 प्रतिशत, कुदरहाॅ में 75.27 प्रतिशत, विक्रमजोत में 77.1 प्रतिशत, मरवटिया में 78.10 प्रतिशत तथा सल्टौआ में 78.77 प्रतिशत है।
उन्होने कहा है कि योजना के प्रारम्भ से अबतक कुल 5069 लाभार्थियों को देयक तृतीय किश्त लम्बित है। इसमें मरवटिया में 369, विक्रमजोत में 386, साऊघाॅट में 398, गौर में 434, हर्रैया में 436 एवं रामनगर में 449 है।
उन्होने कहा है कि योजना के प्रारम्भ से अबतक कुल 982 लाभार्थियों का करेक्शन क्यू हेतु डाटा इंट्री आपरेटर द्वारा लम्बित प्रपत्रों का निराकरण नही किया गया है, जिसमें खराब प्रगति वाली ईकाइ बहादुरपुर 80, कुदरहा 81, गौर 82, साॅऊघाट 85, विक्रमजोत 87 एवं बनकटी 102 है।
उन्होने बताया कि योजना के प्रारम्भ से कुल लक्ष्य 51335 के सापेक्ष कुल 8952 लाभार्थियों के पंजीकरण में बैकलाॅग है, जिसमें सबसे खराब गौर 1488, साॅऊघाट 1372, नगरीय क्षेत्र 1338, मरवटिया 1067, सल्टौआ 831, विक्रमजोत 745, कुदरहा 716, बनकटी 709, बहादुरपुर 584 है। इसमें निर्धारित समय पर लक्ष्य के सापेक्ष प्रगति नही पायी गयी है।
अपने पत्र में जिलाधिकारी ने कहा है कि प्रधानमंत्री मातृ बन्दना योजना केन्द्र सरकार की महत्वपूर्ण योजना है। इसका उद्देश्य गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली माता को आर्थिक लाभ प्रदान करना है। योजना के अन्तर्गत लाभार्थी को तीन किश्त में रू0 05 हजार दिया जाता है। शासन द्वारा नियमित रूप से इसकी समीक्षा की जाती है। उन्होने इस योजना में अपेक्षित प्रगति लाते हुए प्रत्येक दिन की प्रगति से अवगत कराने के लिए पीपीएम को भी निर्देशित किया है।
Comments