शंख,शंखनाद शंखों के प्रकार और उसके प्रमुख धारक !

शंख और शंखनाद परस्पर समानार्थी होसकते है दोनो के अर्थ में बड़ा अंतर है।प्राचीनकाल में शंख ही उद्घोष का एक मात्र उपाय था।शंखों के प्रकार ओर प्रभाव यह संकलित कर प्रस्तुत कर रहा हूं,होसकता है युवा जगत कुछ आत्मसात कर सके!


 


शास्त्रों में शंख को बड़ा ही कल्याणकारी बताया गया हैं. पूजा-पाठ में शंख बजाने का चलन युगों-युगों से चला आ रहा है. देश के कई भागों में लोग शंख को पूजाघर में रखते हैं और इसे नियम‍ित रूप से बजाते हैं. ऐसा माना जाता है कि शंख मां लक्ष्मी का भाई है. शंख को समुद्र मंथन से निकले रत्नों में से एक माना जाता है. 


कैसे हुई शंख की उत्पत्ति?


धार्मिक ग्रंथों के अनुसार शंख भी लक्ष्मी जी की तरह सागर से ही उत्पन्न हुआ है इसी वजह से शंख को लक्ष्मी का भाई बताया गया है. शंख की गिनती समुद्र मंथन से निकले चौदह रत्नों में होती है. शंख को इसलिए भी शुभ माना गया है, क्योंकि माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु, दोनों ही अपने हाथों में इसे धारण करते हैं


पूजा में शंख बजाने के फायदे 


पूजा-पाठ में शंख बजाने से वातावरण पवित्र होता है. जहां तक इसकी आवाज जाती है, इसे सुनकर मन में सकारात्मक विचार पैदा होते हैं. ब्रह्मवैवर्त पुराण में कहा गया है कि शंख में जल रखने और इसे छिड़कने से वातावरण शुद्ध होता है. शंख बजाने से फेफड़े का व्यायाम होता है. पुराणों के जिक्र मिलता है कि अगर श्वास का रोगी नियमि‍त तौर पर शंख बजाए, तो वो बीमारी से मुक्त हो सकता है. इससे वाणी दोष भी समाप्त होता है. शंख में रखे पानी का सेवन करने से हड्डियां मजबूत होती हैं. वास्तुशास्त्र के मुताबिक शंख में ऐसे कई गुण होते हैं, जिससे घर में पॉजिटिव एनर्जी आती है.


 


शंख के प्रकार


शंख की आकृति के आधार पर सामन्यतः इसके तीन प्रकार माने जाते हैं, दक्षिणावृत्ति शंख, मध्यावृत्ति शंख तथा वामावृत्ति शंख. भगवान् विष्णु का शंख दक्षिणावर्ती है और लक्ष्मी जी का वामावर्ती.  वामावर्ती शंख अगर घर में स्थापित हो तो धन का बिलकुल अभाव नहीं होता. इसके अलावा महालक्ष्मी शंख, मोती शंख और गणेश शंख भी पाया जाता है. भगवान कृष्ण के पास पाञ्चजन्य शंख था जिसकी ध्वनि कई किलोमीटर तक पहुंच जाती थी. पाञ्चजन्य बहुत ही दुर्लभ शंख है. कहते हैं कि महाभारत युद्ध में अपनी ध्वनि से पांडव सेना में उत्साह का संचार करने वाले इस शंख की ध्वनि से संपूर्ण युद्ध भूमि में शत्रु सेना में भय व्याप्त हो जाता थाl शंख शक्ति और सम्पन्नता शस्त्र औऱ शास्त्र का परिचायक माना जाता था।


 


 


 


 


 


Comments
Popular posts
ॐ नमो ब्रह्मनदेवाय गो ब्राह्मण हिताय च!
बिना बी एस सी बीएड के 17 वर्ष की अल्पायु में शिक्षक और अब पेंशन भी जारी बस्ती शिक्षा विभाग का बड़ाखेल!
सरकार को कानून व्यवस्था का दंभ, अपराधियों ने किया नाक में दम! लखनऊ में 7 साल की मासूम से अगवा कर दरिंदगी; 1 आरोपी गिरफ्तार, दूसरा फरार! हाईकोर्ट के पास सरेराह चौराहे पर महिला वकील की मोबाइल छीन लुटेरा फरार छात्रों के दो गुटों में संघर्ष, एक की मौत!
Image
नहर में ट्रैक्टर गिरने से दो की मौत
Image
अब मुख्तार के दो बेटों पर भी 25-25हजार के इनाम घोषित!