गोरखपुर में 5000 रोज कोरोना की जांच

 


       गोरखपुर 27 सितम्बर 


अपर मुख्य सचिव चीनी उद्योग एंव गन्ना विकास तथा आबकारी विभाग उ0प्र0 षासन/नोडल अधिकारी गोरखपुर संजय आर भूसरेड्डी ने ऐनक्सी भवन सभागार मे स्वास्थ्य विभाग के शहरी क्षेत्र के स्वास्थ्य केन्द्रो के डाक्टरो और रैपिड रिस्पास टीम के साथ बैठक करते हुये निर्देश दिया कि गुणवत्ता के साथ ज्यादा से ज्यादा लोगो की कोरोना की जांच करते हुये  संक्रमितो की पहचान करते हुये उनका समय से चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराया जाये।


उन्होने कहा कि रैपिड रिस्पास टीम अनिवार्य रूप से होम आईसुलेषन मे रह रहे लोगो की जांच करने हेतु उनके घरो पर जाये और अपनी रिपोट दे कि मरीज होम आईसुलेषन मे रहने योग्य हे या नही अगर मरीज होम आईसुलेषन मे रहने के योग्य नही है तो उसे उसके स्थिति के अनुसार तत्काल एल-1,एल-2 या एल-3 के चिकित्सालय मे भर्ती कराकर उसका ईलाज सुनिष्चित किया जाये।


 


उन्होने कहा कि हमे अपने कार्याे का स्वयं मूल्याकन करते हुये अपनी कमियो को दूर करते हुये ओर भी बेहतर  कार्य कर लोगो के जीवन की रक्षा करनी है और कोरोना के इस लडाई को जीतना है। उन्होने कहा कि पोर्टल पर डाआ इन्टी कों सही से  और ससमय किया जाये। और सक्रमितो के सम्पर्क मे आये लोगो की पहचान करते हुये उनकी भी समय से जांच किया जाये। एक मरीज की कम से कम 20 कान्टेªट की टेसिग किया जाये। असके लिये ग्राम स्तरीय अधिकारियो/कर्मचारियो की मदद ली जाये।


अपर मुख्य सचिव ने कहा कि हमे तकनीकी संसाधन की मदद भी अपने कार्यो मे लेना  कर और बेहतर कार्य करना होगा। उन्होने कहा कि हर पीएचसी /सीएचसी पर जांच की सुविधा उपलब्ध है इस लिये प्रतिदिन ज्यादा से ज्यादा कोरोना की जांच किया जाये।


 


 बैठक के दौरान मण्डलायुक्त जयन्त नालिकर ने  कहा कि सभी एमओआईसी अपने अपने कार्यो की स्वय आंकलन करके देख और अपनी कमियां को दूर करते हुये कोरोना के इस लडाई मे और मेहनत करे हम सब मिलकर कोरोना के इस चेन को रोकना हैं। जितनी जल्दी हम मरीजो की जांच कर उनका ईलाज करेगे उतनी ही तेजी से हम कोरोना के चेन को रोकने मे मदद मिलेगी और मृत्यु दर मे भी कमी होगी।


उन्होने कहा कि गम्भीर बीमारियो से ग्रसित या कमजोर स्वास्थ वाले व्यक्तियांे, बुर्जुग व्यक्तियो आदि को होम आईसुलेषन की अनुमति नही दिया जाये।


 


बैठक के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने अभी तक क किये गयेे कार्याे के बारे मे विस्तार पूर्वक जानकारी देते हुये बताया कि प्रतिदिन लगभग 5000 लोगो की जांच किया जा रहा है और होम आईसुलेषन मे रह रहे व्यक्तियो की भी निगरानी किया जा रहा है और कान्टेªट टेसिग को और बढाया जा रहा है। 


 


 


 


इसके उपरान्त अपर मुख्य सचिव मे  पेटोलियम एसोसियन,व्यपार मंडल, दवा एसोसियन एवं अन्य एसोसियन के पदाधिकारियो से वार्ता करते हुये  अपील किया सभी पदाधिकारी भी आम जन को मास्क लगाने और  दो गज की दूरी के पालन कराने मे सहयोग करे।यदि कोई बिना मास्क लगाये उनकी प्रतिष्ठानो पर जाता है तो उसे मासक लगाने के लिये जागरूक करे यदि न माने तो उसे पेट्रोल/सामान आदि न दे।उन्होने कहा कि आर्थिक गतिविधियो के संचालन के साथ-साथ हेम लोगो के जावन की रक्षा भी करनी है


 


     इस अवसर पर प्र्रभारी जिलाधिकरी/मुख्य विकास अधिकारी इन्दजीत सिंह, नोडल अधिकारी संजय खत्री, अपर निदेषक स्वास्थ्य जेएम त्रिपाठी,मुख्य चिकित्सा अधिकारी श्रीकान्त तिवारी, अपर जिलाधिकारी वित राजेष सिह सहित विभिन्न अधिकारी उपस्थित रहे।


 


 


 


 


 


 


 


 गई।


Comments