बाहर से आये अकुशल श्रमिको को प्रशिक्षण देकर कामगार बनाया जाएगा

कौटिल्य वार्ता
By -
0

बस्ती,उत्तर प्रदेश


05 मई 2020 सू०वि०, कोरोना वायरस के कारण लाकडाउन अवधि में बाहरी प्रदेशो से लौटे अकुशल श्रमिकों को प्रशिक्षण देकर कुशल, कामगार बनाया जायेंगा। इसके लिए जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने लीड बैंक के प्रशिक्षण संस्थान आरसेटी को आवश्यक निर्देश दिये है। वे कलेक्टेªट सभागार में बैंको एवं विभागीय जिला परामर्शदात्री समिति की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होने कहा कि बाहर से आने वाले मजदूरों की कुशल, अर्धकुशल तथा गैर कुशल तीन श्रेणियों में सूची तैयार की गयी है। आरसेटी के प्रबन्धक संबंधित तहसीलों से इसे प्राप्त कर इनको हुनरमंद बनानेे की कार्ययोजना 10 दिन में प्रस्तुत करें।
उन्होने सामाजिक सुरक्षा योजनाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में सीधे उनके खातों में धनराशि भेजी गयी है। उन्होने  बैंकवार ऐसे खातों का विवरण देने का निर्देश दिया है। उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, जीवनज्योति बीमा योजना, अटल पेंशन योजना के सक्रिय खातों का विवरण भी प्रस्तुत करें।
जिलाधिकारी ने वार्षिक ऋण योजना की समीक्षा में पाया कि वित्तीय लक्ष्य रू0 241309 .88 लाख के सापेक्ष रू0 176042 .65 लाख ऋण वितरित किया गया है जो की लगभग 73 प्रतिशत है। किसान के्रडिट कार्ड 127271 किसानों को दिया गया है, जबकि कृषि जिले की प्राथमिकता का क्षेत्र है। किसान के्रडिट कार्ड देने में बैंक आफ इण्डिया, इण्डियन बैंक, ओरिएण्टल बैंक आफ कामर्श, आन्ध्रा बैंक, इण्डियन ओवर सीज बैंक, एक्सिस बैंक, अरबन कोआपरेटिव बैंक फिसड्डी रहे है।
उन्होेने समीक्षा में पाया कि जिले में ऋण जमा अनुपात 40.12 प्रतिशत रहा है। जबकि इसका लक्ष्य 60 प्रतिशत का है। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि कृषि एवं उद्योग, व्यापार में आवंटित लक्ष्य को शतप्रतिशत पूरा करें ताकि इसमे सुधार लाया जा सके।


Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)