सहकारिता भारत का स्वभाव और समृद्धि का प्राणवायु है..अरविंद जायसवाल

कौटिल्य वार्ता
By -
0

 बस्ती,उत्तरप्रदेश 26अगस्त


सहकारिता भारत का स्वभाव है, सहकारिता के बिना भारतवर्ष में किसी जीवन की कल्पना कठिन है। वेदों एवं रामायण में भी सहकारिता का घोष रहा है .जीवन और मृत्यु दोनों सहकारिता के सोपान हैं, जिस व्यक्ति के जीवन में सहकारिता नहीं है वह मरा हुआ व्यक्ति है। उक्त बातें आज भारतीय जनता पार्टी द्वारा जिला सहकारी बैंक के तत्वावधान में सदस्य महा अभियान कार्यक्रम को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए श्री अरविंद जायसवाल क्षेत्रीय उपाध्यक्ष गोरखपुर क्षेत्र ने व्यक्त किये। उन्होंने कहा भाजपाऐसी  पार्टी है जो कार्यकर्ता आधारित पार्टी है। यहां कार्यकर्ता ही हर चीज का निर्धारण करता है। सहकारिता में बड़े-बड़े लोग जुड़े हैं। आज देश का नेतृत्व कर रहे माननीय प्रधानमंत्री, माननीय सहकारिता मंत्री, माननीय लोक निर्माण मंत्री और शरद पवार जैसे दिग्गज सहकारिता की उपज है। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि सहकारिता को भारत की प्राणवायु बनाना चाहिए।


 भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष श्री महेश शुक्ला ने कहा कि सरकार से समृद्धि हो सकती है और समृद्धि से सम्मान मिलता है। इसलिए सरकार समृद्धि और सम्मान तीनों के लिए हर आदमी को संघर्ष करना चाहिए और भारतीय जनता पार्टी इसके लिए स्वर्णिम अवसर दे रही है। इस अवसर पर डी0सी0एफ0 के अध्यक्ष श्री पवन कसौधन, उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष श्री दिवाकर मिश्र संत कबीर नगर, उपभोक्ता फेडरेशन के अध्यक्ष श्री राकेश मिश्रा, संत कबीर नगर के अध्यक्ष श्री शिवाजी मिश्रा, श्री पवन राय भाजपा के जिला महामंत्री बस्ती, श्री राम चरण चैधरी तथा कार्यक्रम के आयोजक प्रदेश कार्य समिति के सदस्य और जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष राजेन्द्र नाथ तिवारी ने आयोजकों का स्वागत एवं सबके प्रति सहकारिता के मूल स्वभाव की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा यदि किसी को समृद्धि लानी है, यदि किसी को सफलता का जमीनी सोपान प्राप्त करना है तो सहकार से ही संभव हो सकता है। 


 श्री राम शंकर यादव जिला संयोजक सह कारिता ने कहा मान्यताओं की व्यवस्था की व्यवस्था को प्रतीपादित करना ही शकारिता का मूल उद्देश्य है, जहा सह वही संस्कार वही समृद्धि.सदस्यता महा अभियान में जो लगेगा वही आगे सम्मान पाएगा.ही सदस्य कमसेकम नहीं अधिक से अधिक सदस्य बनाएं और सकारात्मक सहयोग कर बड़े यज्ञ का प्रसाद ग्रहण करे.

 बस्ती और संत कबीर नगर में सहकारिता के कार्य की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा इस समाजवादी पार्टी के लोगों की सहकारिता और सहकारी सिद्धांतों सहकारी संस्थाओं पर संगठित गिरोह की तरह डकैती डाला .अब भाजपा के राज्य में कुछ भी गलत नही होगा.

 इसलिए समाजवादी पार्टी के लोग अनाप-शनाप बकते ही हैं लेकिन सहकारी बैंक का सहकारी संस्थाएं आत्म निर्भरता की ओर बद रही है, भारतीय जनता पार्टी उनके सम्मान के लिए हर स्तर पर प्रयास करेगी .भारत की आर्थिक आत्मनिर्भरता का आधार ही सहकारिता .बिना सहकारिता के कुछ भी संभव नहीं सहकारिता से ही जीवन मृत्यु स्वर्ग और नरक दोनों मिलते हैं. इसलिए बिना सहकार नहीं संस्कार बिना सनकार नहीं सह कार इसलिए जीवन के हर क्षेत्र में सहकारीता व्यवस्था अनिवार्य है उन्होंने सरकारी संस्थाओं की आवश्यकताओं के मजबूत होने पर बोल दिया

इस अवसर पर जिला सहकारी बैंक के संचालक श्री वीरेंद्र प्रताप सिंह, श्री हमीरपाल, श्री सुनील यादव, श्रीमती उत्तम सिंह, श्रीमती रोली सिंह, श्री विनय उपाध्याय, श्री मनमोहन तिवारी, श्री ओम प्रकाश तिवारी, श्री रविन्द्र गौतम, श्री मनीष चैबे एडवोकेट तथा बस्ती और संतकबीर नगर के सैकड़ांे सहकारी कार्यकर्ताओं ने आज स्थानीय जिला पंचायत सभागार में बस्ती जिला सहकारी बैंक के अधीन आने वाले क्षेत्र बस्ती संतकबीरनगर ने शकारिता  पर मंथन किया.सहकारिता के लिए समृद्धि और समृद्धि के लिए धन-धन के लिए सदस्यता अभियान इन सबको मान्य करते हुए विचार-विमर्श किया।

आभार ज्ञापन के बाद कार्यक्रम समाप्त हुआ.

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)