हे भगवान!इस देश को केजरीवालों से बचना!

 भारतीय राजनीती में अनेक विद्रूप बी बहुरूपिये पाये जाते है ये नकरात्मक चेहरेदेश की प्रगति में वैचारिक स्पीडब्रेकर का काम  करते है उसमे केजरीवालों का नाम प्रमुख है. जबभी देश की पटरी सही होने को होती है ,तुरन्त स्पीड ब्रेकर खड़ा होजाता है ,कभी सिसिडिया,कभी केजरी वाल के रूप में.यह सब हिन्दू मतो के विभाजन व् मुस्लीम मतो पर डकैती ही उनका मुख्य धंधा होगया है. दल्ली की छाती पर कबतक मूग दलेगा केजरीवाल?


अभी भारतीय मुद्रा पर माता लक्ष्मी और भगवान गणेश के चित्र छापने की जो मांग की है, वह असंवैधानिक, हास्यास्पद और बचकानी है। यदि मुद्राओं पर देवी-देवताओं के चित्र छापने से अर्थव्यवस्था में सुधार होता, तो विश्व में आर्थिक संकट, गरीबी, कुपोषण और भुखमरी जैसी समस्याएं ही नहीं होतीं। सभी 195 देशों के अपने-अपने आराध्य हैं और उनकी आस्थाएं हैं, लेकिन 100 से अधिक देश अविकसित और दरिद्र हैं। अंतरराष्ट्रीय एजेंसियां और सरकारें उनकी मदद करती रही हैं, लिहाजा उनके अस्तित्व बरकरार हैं। अमरीका दुनिया का सबसे ताकतवर और प्रथम आर्थिक संसाधनों वाला देश है। उसकी सर्वशक्तिमान मुद्रा-डॉलर पर देश के संस्थापक और पूर्व राष्ट्रपति आदि के चित्र छपे हैं। चीन विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। उसकी मुद्रा पर देश के संस्थापक, प्रथम राष्ट्रपति रहे माओत्से तुंग का चित्र अंकित है।


जापान की मुद्रा-येन पर देश के संस्थापकों, महान विचारकों और वैज्ञानिकों के चित्र हैं। ब्रिटेन की मुद्रा-पाउंड पर महारानी विक्टोरिया द्वितीय का चित्र छपता था। अब उनके कालजेयी होने के बाद मौजूदा किंग चाल्र्स तृतीय का चित्र छपेगा। मुद्राओं के धार्मिकीकरण की सोच और प्रवृत्ति किसी भी बड़े देश का रिवाज़ नहीं है। सिर्फ 87 फीसदी से ज्यादा मुस्लिम और मात्र 1.7 फीसदी हिंदू आबादी वाले इंडोनेशिया को उदाहरण मानकर भारत अपनी मुद्रा का चेहरा तय नहीं कर सकता। यह केजरीवाल का मानसिक दिवालियापन है। इंडोनेशिया में कुछ धर्मों को आधिकारिक मान्यता प्राप्त है, लिहाजा वे अपनी मुद्रा पर गणेश, महादेव और बजरंगबली के चित्र भी छाप सकते हैं। भारत एक संवैधानिक धर्मनिरपेक्ष देश है, जिसके नीति-निर्माताओं ने एक ही धर्म विशेष के कैलेंडर तक को मान्यता नहीं दी। यदि माता वैष्णो देवी या स्वर्ण मंदिर अथवा किसी अन्य के संदर्भ में भारतीय नोट और सिक्के तैयार किए गए हैं, तो वे सिर्फ विशेष अवसर पर ही छापे गए थे। यह भारतीय मुद्रा की परंपरा नहीं है कि धर्म के आधार पर वह छापी जाए। यह साझा विशेषाधिकार भारत सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक का है। संसद भी इसमें दखल नहीं दे सकती। गौरतलब है कि देश की आजादी के 22 साल बाद 1969 में नोटों पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का चेहरा छापा गया, क्योंकि वह उनका जन्म शताब्दी वर्ष था।



आज के नोटों पर महात्मा गांधी का जो चेहरा अंकित है, उसे 1987 में स्वीकृति दी गई थी। उससे पहले भारतीय नोटों पर ‘अशोक स्तंभ’ छापा जाता था। यह परंपरा आज भी कुछ मुद्रा के संदर्भ में जारी है। कुछ नोटों और सिक्कों की फोटोस्टेट प्रतियां टीवी चैनलों पर लहराते हुए ‘आप’ के सांसद और प्रवक्ता जो प्रलाप कर रहे हैं, वह चुनावी कुतर्क के अलावा कुछ भी नहीं है। दरअसल केजरीवाल किसी एक भगवान के भक्त नहीं हैं। वह बजरंगबली के कट्टर भक्त बन जाते हैं। अयोध्या जाकर प्रभु राम के निर्माणाधीन मंदिर में दर्शन करने चले जाते हैं। हालांकि वह राम मंदिर के खिलाफ दुष्प्रचार करते रहे कि उसके स्थान पर अस्पताल बनाया जाना चाहिए था। गुजरात प्रवास के दौरान वह सिर पर टोकरी सी उठाकर सोमनाथ मंदिर में भी गए और भगवान महादेव के दर्शन किए। वह मुस्लिम टोपी धारण कर ‘मुसलमान’ दिखने में भी परहेज नहीं करते। अच्छा है कि केजरीवाल धार्मिक समभावी दिखने की पूरी कोशिश करते हैं, लेकिन उनका बुनियादी इष्टदेव ‘वोट’ है। वह वोट हासिल करने को अलग-अलग हरकतें करते रहे हैं। जो लोग उनके साथ रहे हैं या किसी भी रूप में आज भी साथ निभाना पड़ रहा है, वे बखूबी जानते हैं कि लक्ष्मी-गणेश उन्हें कितने प्रिय है? कितने आराध्य हैं? बेशक हिंदुत्व किसी की बपौती नहीं है। गुजरात में फिलहाल ‘आप’ की अग्नि परीक्षा होनी है, लिहाजा वह हिंदुत्व के मुद्दे पर भी शोर मचाना चाहते हैं। भाजपा के वोट-बैंक में सेंध लगाने की राजनीति केजरीवाल की प्रबल है। अभी देश के हिंदू धर्मियों ने दीपावली महापर्व पर मां लक्ष्मी और प्रथम पूजनीय देव गणेश की पूजा की है। ऐसा कई दशकों से किया जाता रहा है, लेकिन आज भी करोड़ों भारतीय गरीबी-रेखा के तले जी रहे हैं। अर्थव्यवस्था भी हिचकोले खाती रही है। अर्थव्यवस्था के कुछ बुनियादी मानक हैं, जिन पर सरकार और उसके सलाहकार काम कर रहे होंगे, लेकिन प्रभु केजरीवाल जैसे अनर्थशास्त्रियों से बचाए
केजरीवाल का नाम  सदा भविष्य में नकरात्मकताके लिए जाना जायेगा.
Comments
Popular posts
सरकार को कानून व्यवस्था का दंभ, अपराधियों ने किया नाक में दम! लखनऊ में 7 साल की मासूम से अगवा कर दरिंदगी; 1 आरोपी गिरफ्तार, दूसरा फरार! हाईकोर्ट के पास सरेराह चौराहे पर महिला वकील की मोबाइल छीन लुटेरा फरार छात्रों के दो गुटों में संघर्ष, एक की मौत!
Image
ॐ नमो ब्रह्मनदेवाय गो ब्राह्मण हिताय च!
साई बाबा के पिता पिंडारी मुसलमान थे,इनका काम भारत मे लूटपाट करना था
Image
कलक्टर बस्ती का आग्रह सब योगदान करें टीका अभियान में!
Image
यूपी की बाराबंकी जेल में 26 कैदी एचआईवी पॉजीटिव मिलने से हड़कंप
Image