प्रतापगढ में पत्रकार की हत्या! सत्य का गला घोंटने जैसा! मण्डलालयुक्त को ज्ञापन

कौटिल्य वार्ता
By -
0

 


प्रतापगढ़ में पत्रकार की हत्या पर बस्ती प्रेस क्लब ने मुखर की आवाज

बस्ती, उत्तरप्रदेश

पत्रकारों पर लगातार हो रहे हमले पर अब पत्रकार संगठन सरकार से स्थाई समाधान चाहती है, पत्रकार मारे जा रहे और सरकार उन्हे न तो मुआवजा देती है और न ही उनके परिवार के लिए कोई कदम उठाती है, जिसको लेकर अब पत्रकार संगठनों में भारी रोष है और सरकार से मांग करती है कि किसी भी पत्रकार की न्यूज कवरेज के दौरान हत्या या हादसा होता तो सरकार एक ऐसा प्रस्ताव लाए जिसका उस पत्रकार के परिवार को लाभ मिल सके। प्रदेश की नहीं बल्कि पूरे देश में हमेशा से ही पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े होते रहे हैं। कई मौकों पर समाचार कवरेज करते समय पत्रकारों के साथ मारपीट और हत्याओं की घटनाएं सामने आती रही है, मगर ऐसे मामलों को परिवेश और देश की सरकारों ने संज्ञान में नहीं लिया और पत्रकारों की सुरक्षा के लिए कड़े कानून नहीं बनाए गए। जिसका नतीजा एक बार फिर प्रतापगढ़ में देखने को मिला जहां एबीपी न्यूज चैनल के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की शराब माफियाओं द्वारा रहस्यमय परिस्थितियों में हत्या कर दी गई। पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की हत्या को लेकर बस्ती के पत्रकारों में उबाल देखा गया और इसको लेकर आज मुख्यमंत्री के नाम मण्डलायुक्त अनिल सागर को पत्रकारों ने एक ज्ञापन सौंपा।
प्रतापगढ़ में 13 जून रविवार की देर रात हुई एक टीवी के पत्रकार की हत्या व अब तक तमाम पत्रकारों पर हो रहे लगातार हमलों के विरोध में बस्ती प्रेस क्लब के नेतृत्व में जिले के तमाम प्रेस-प्रतिनिधियों ने मंडलायुक्त कार्यालय में पहुंच ज्ञापन सौंपकर हत्याकाण्ड की कड़ी निंदा की और उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की। इस दौरान प्रदेश सरकार से मृतक पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव के परिवार को उचित आर्थिक सहायता व सरकारी नौकरी और हत्यारों को शीघ्र गिरफ्तार करने व परिवारजनों की सुरक्षा की मांग किया। पत्रकारों पर लगातार हो रहे हमले और हत्याओं की घटना को लेकर बस्ती प्रेस क्लब के अध्यक्ष विनोद कुमार उपाध्याय ने पत्रकारों की सुरक्षा की मांग की। ज्ञापन देने के लिए प्रेस क्लब अध्यक्ष विनोद कुमार उपाध्याय, कोषाध्यक्ष बिन्नू श्रीवास्तव, महामंत्री रमेश मिश्रा, लवकुश के साथ इलेक्ट्रानिक मीडिया से सतीश श्रीवास्तव, वसीम अहमद और संतोष सिंह मौजूद रहे।

Post a Comment

0Comments

Please Select Embedded Mode To show the Comment System.*