शादी का मंडप छोड़ दुल्हन गयी नियुक्तिपत्र लेकर आई फिर हुई बिदाई

 



गोंडा, उत्तरप्रदेश,5 दिसम्बर 20सरकारी नौकरी की चाहत में लोग क्या कुछ नहीं करते. दिन-रात मेहनत से पढ़ाई से लेकर परीक्षा और इंटरव्यू के लिए दर-दर की खाक छानते हैं. आखिरकार जब नौकरी मिलने की उम्मीद जगती है, तब वे हर जोखिम उठाने को तैयार रहते हैं. कुछ ऐसा ही नजारा यूपी के गोंडा में देखने को मिला, जब एक दुल्हन शादी के मंडप में दूल्हे को छोड़कर नौकरी की काउंसलिंग के लिए निकल पड़ी. संयोग ऐसा रहा कि दुल्हन को वह नौकरी मिल भी गई. इसके बाद वह वापस लौटी तो सरकारी टीचर बन चुकी है. घरवालों ने इसके बाद शादी का बाकी काम संपन्न कराया और दुल्हन की विदाई हो सकी.

बता दें कि गोंडा के रामनगर में बाराबंकी की रहने वाली प्रज्ञा तिवारी मेहंदी रचे हाथों से अपने डॉक्यूमेंटस को संभालते और फॉर्म फिल करते हुए दिखीं. दरअसल, प्रज्ञा ने शादी के सात फेरे ले लिए थे. इसके बाद सुबह 5 बजे जैसे ही दूल्‍हे ने उसकी मांग में सिंदूर भरा, वैसे ही वह मंडप छोड़कर गोंडा बीएसए ऑफिस के लिए निकल पड़ी. यहांं प्रज्ञा की काउंसलिंग होनी थी. चूंकि काउंसलिंग की शेड्यूल डेट और टाइम फिक्स था, लिहाजा फेरों के बाद ही प्रज्ञा को कई रस्में छोड़कर काउंसलिंग के लिए जाना पड़ा. काउंसलिंग के बाद प्रज्ञा वापस आई तब जाकर विदाई हुई.


प्रज्ञा लाइन में लगी और अपने डॉक्यूमेंटस को चेक करवा कर रिसीविंग ली. प्रज्ञा के चेहरे पर दोहरी खुशी झलक रही थी. बेसिक शिक्षा अधिकारी इंद्रजीत प्रजापति ने भी प्रज्ञा को बधाई देते हुए कहा कि यह बड़ी बात है कि कल शादी हुई और आज नौकरी लग गई. प्रज्ञा काउंसलिंग करा कर वापस बाराबंकी चली गई है. उन्होंने बताया कि प्रज्ञा की नियुक्ति बेसिक शिक्षा विभाग गोंडा में शिक्षक के पद पर हुई हैं. बहरहाल, नई नवेली दुल्हन का काउंसलिंग में जाना और सरकारी नौकरी पाने के बाद विदाई की चर्चा चारों तरफ हो रही है. लोग दुल्हन की हिम्मत और प्रतिभा की तारीफ कर रहे हैं.
Comments